वैसे तो दुनिया में एक से बढ़कर एक प्रतिभाएं मौजूद हैं, लेकिन यदि किसी दुर्लभ प्रतिभा का धनी व्यक्ति बिल्कुल साधारण ढंग से आपके घर में बैठकर आँखों के सामने सजीव बात कर रहा हो और जो आपके गाँव-घर का हो तो एक अद्‍भुत गर्व व रोमांच का अनुभव होता है।

श्री जय कुमार पाठक से अपने आवास पर पहली बार मिलकर मुझे ऐसा ही लगा। उन्हें देखकर एक बारगी यह कल्पना करना कठिन था कि इनके हाथ में ईश्वर ने सचमुच एक जादुई तूलिका थमा रखी है। वे मेरे एक मामा जी के साथ आये थे। सामान्य कु्शल-क्षेम पूछने के बाद जब मैने इलाहाबाद आने का प्रयोजन पूछा तो वे अत्यन्त संकोच और लज्जा के साथ इतना कह सके कि पडरौना के एक साधारण मुहल्ले में बीत रही गुमनामी की जिन्दगी से बाहर निकलकर अपनी कला के लिए कोई रास्ता ढूँढना चाहते हैं।

स्थानीय स्तर पर ‘पुजारी जी’ के नाम से जाने जाते ४३ वर्षीय श्री पाठक आठ भाई-बहनों में सबसे बड़े हैं। घर की गरीबी से तंग आकर इन्होंने सातवीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी और १५ साल की उम्र में अयोध्या चले गये। वहाँ वासुदेवाचार्य जी के वैष्णव सम्प्रदाय में सम्मिलित होकर ‘जयनारायण दास’ बन गये थे। वहीं आश्रम में इनकी भेंट झाँसी से पधारे प्रेम-चित्रकार से हो गयी।

अच्छा गुरू मिलते ही इन्हें रेखांकन और चित्रों के रंग संयोजन की बारीकियाँ समझते देर नहीं लगी और शीघ्र ही इन्होंने प्राकृतिक सौन्दर्य, पोर्ट्रेट और धार्मिक पात्रों से सम्बन्धित चित्रों को कैनवस पर सजीव उतार लेने में महारत हासिल कर ली।
आगे की कहानी जानने से पहले आइए देखते हैं इनके हाथ से जीवन्त हो चुके कुछ अनमोल चित्र:

[ये सभी चित्र मैने इनके पास उपलब्ध पोस्ट्कार्ड साइज के उस एलबम से लिए हैं जो इनकी चित्रकृतियों के साधारण फोटोकैमरे से दसियों साल पहले लिए गये छायाचित्रों को सहेजकर बनाया गया है।]

धार्मिक पात्रों के अतिरिक्त पुजारी जी अन्य प्राकृतिक दृश्यों और मानव आकृतियों को पूरी सच्चाई के साथ उतारने में पारंगत हैं। सिर ढंकी हुई राजस्थानी युवती की यह तस्वीर अखबार में छपे इसकी संगमरमर की मूर्ति के छायाचित्र को देखकर बनायी गयी है। इसके नीचे उर्वशी का यह रूप पुजारी जी की अपनी कल्पना है।


भगवान बुद्ध के जीवन से सम्बन्धित चित्रों से ही पुजारी जी को कुछ आर्थिक लाभ मिल पाता है। इनके महापरिनिर्वाण स्थल कुशीनगर में आने वाले विदेशी पर्यटकों के हाथों बिककर इनके चित्र थाईलैण्ड,जापान,कोरिया,आदि देशों तक तो चले गये, सम्भव है उनकी अनुकृतियाँ बेचकर किसी ने पैसा भी कमाया हो, लेकिन यह सब पुजारी जी की आर्थिक दुरवस्था को किसी प्रकार से दूर करने में कारगर नहीं हो सके।


वृन्दावन में राधाजी को झूला झुलाते हुए श्रीकृष्ण की यह तस्वीर पुजारी जी के गुरू प्रेम-चित्रकार द्वारा बनायी गयी है। इसमें पुजारी जी ने राधा और कृष्ण को आभू्षण पहनाने का काम किया है। लेकिन वे गुरू की निशानी इस तस्वीर को सदैव अपने पास रखते हैं।

कुशीनगर जिले के पडरौना कस्बे (जिला मुख्यालय) के पास पटखौली ग्राम के मूल निवासी पुजारी जी को उनके वृद्ध होते पिता के मोह ने १५ साल बाद अयोध्या से घर वापस बुला लिया। पितृमोह और परिवार की फिक्र से ये वापस तो आ गये लेकिन जीविकोपार्जन की कोई मुकम्मल व्यवस्था न होने के कारण जीवन कठिन हो चला है। विवाह का विचार तो पहले ही त्याग चुके हैं। अब भाइयों बहनों के साथ घर-परिवार में रहकर पडरौना के नौका टोला मुहल्ले में ‘पुजारी आर्ट’ के नाम से एक सेवा केन्द्र चलाते हैं। कुछ लोग शौकिया तौर पर चित्र और पोर्ट्रेट बनवा कर ले जाते हैं लेकिन इनकी मेहनत, लगन और प्रतिभा के अनुरूप आर्थिक आय हासिल नहीं हो पाती है।

वस्तुतः यदि इनके हाथों को सही काम मिले और पारखी प्रायोजकों का समर्थन मिले तो शायद हम राजा रवि वर्मा को मूर्त रूप में पुनः देख सकें। फिलहाल तो ये गुमनामी के बियाबान में भटकने को अभिशप्त कलाकार का जीवन जी रहे हैं।

(सिद्धार्थ)