इस बार गणतन्त्र दिवस के दिन ही प्रयाग के माघ मेले का मुख्य स्नान पर्व (मौनी अमावस्या) भी पड़ गया। इसके साथ ही सोमवती अमावस्या तथा सूर्य ग्रहण के संयोग के कारण इस बार श्रद्धालु स्नानार्थियों की ज्यादा भीड़ बढ़ने की सम्भावना भी रही है। करीब एक करोड़ लोगों द्वारा यहाँ डुबकी लगाने का अनुमान किया गया है।

कल २५ जनवरी को इसी की तैयारी के सिलसिले में मुझे भी प्रातःकाल संगम तट पर जाना हुआ। सूर्योदय की प्रथम बेला में गंगा यमुना के तट साफ-सु्थरे होकर अपार जनसमूह की प्रतीक्षा कर रहे थे। यमुना के तट से मैने मोबाइल कैमरे से कुछ तस्वीरें लीं:

 

Image011 (2)

यमुना का शान्त किनारा जहाँ २६ को खूब चहल पहल होगी।

 

Image012 (2)

प्रतीक्षा में नाविक जो कल कुछ ज्यादा कमा सकेंगे।

 

Image013 (2)

काश सूर्यदेव २६ को भी ऐसी ही धूप खिलाते!

 

Image014 (2)

चादरें भी बिछ चुकी हैं। अमावस की प्रतीक्षा …

इधर घर के लॉन में गुलाब खिलने लगे हैं, जिन्हें कभी सबसे अधिक खतरा मेरे दो साल के बेटे सत्यार्थ से होता था। लेकिन जब उसे बताया गया कि तोड़ने पर फूल रोते हैं, तबसे उनका सबसे बड़ा रक्षक भी सत्यार्थ ही है। अब हवा से पंखुड़ियों का झड़ना भी उसे गवाँरा नहीं।

Image000Image018 (2)Image015 (2)Image035

 (सिद्धार्थ)