आदरणीय मित्रों,

अठ्ठाइस मई को मेरे बेटे ‘सत्यार्थ’ का मुण्डन होना निश्‍चित हुआ है। हम सभी सप्ताह भर के लिए गाँव जा रहे हैं। वहाँ जो कुछ होगा उसकी रिपोर्ट तो मैं लौटकर दे पाऊंगा लेकिन वहाँ जो होना सम्भावित है उसे बेटे की जुबान में फिट करके छोड़ा जा रहा हूँ। मुण्डन की तिथि को लाइव कमेण्ट्री मानकर आप पढ़ें और नन्हें सत्यार्थ को आशीष दें। सादर!

कट जाएंगे मेरे बाल…

गर्मी की   छुट्टी आई है।

दीदी की मस्ती छायी है॥

पर देखो,   मैं हूँ बेहाल।

कट जाएंगे     मेरे बाल॥

Image049
Image011 (2)

मम्मी कहती फँसते हैं ये।

डैडी कहते ‘हँसते हैं’ ये॥

दीदी कहती  ‘हैं जंजाल’।

कट जाएंगे     मेरे बाल॥

मुण्डन को है गाँव में जाना।

परम्परा से    बाल कटाना॥

नाऊ की कैंची      बदहाल।

कट जाएंगे        मेरे बाल॥

Image027
दीदी की शॉपिंग

गाँव-गीत की लहरी होगी।

मौसी-मामी  शहरी होंगी॥

ढोल – नगाड़े   देंगे ताल।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

दादा – दादी, ताऊ – ताई।

चाचा-चाची, बहनें – भाई॥

सभी करेंगे    वहाँ धमाल।

कट जाएंगे       मेरे बाल

archives 084
Image057

बूआ सब आँचल फैलाए।

बैठी होंगी   दाएं – बाएं॥

हो जाएंगी     मालामाल।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

‘कोट माई’ के दर जाएंगे।

कटे बाल को  धर आएंगे॥

‘माँ’ रखती है हमें निहाल।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

Image015
Image004

हल्दी, चन्दन, अक्षत, दही।

पूजा की थाली खिल रही॥

चमक उठेगा    मेरा भाल।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

मम्मी    रोज करें बाजार।

गहने, कपड़े   औ’  श्रृंगार॥

बटुआ ढीला – डैडी ‘लाल’।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

Image080

     बाबू (14)    

अब तो होगी मेरी  मौज।

नये खिलौनों की है फौज॥

मुण्डन होगा बड़ा कमाल।

कट जाएंगे      मेरे बाल॥

सभी अंकल्स और आण्टियों को सादर प्रणाम! भैया-दीदी को नमस्ते

-सत्यार्थ

[कोट माई: गाँव की अधिष्ठात्री देवी जिनके पीठ-स्थल पर जाकर माथा टेकना सभी ग्रामवासियों की श्रद्धा का विषय है।]

प्रस्तुति- सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी