रात को सवा दस बजे सोफ़े पर लेटे हुए जी-टीवी पर १२/२४ करोल बाग के काण्ड देख रहा था। चूँकि लेटकर ब्लॉगरी नहीं कर सकता इसलिए शाम को एक घण्टा इसी प्रकार टीवी देखना अच्छा लगता है। तो ऑफिस और गृहस्थी के कामों की थकान मिटा ही रहा था कि फोन पर सूचना मिली कि ज्ञानजी के लिए एम्बुलेन्स मंगायी गयी है और वे रेलवे अस्पताल की राह पर हैं। उनके बाएं हाथ में लकवा की शिकायत पायी गयी है। मैंने झट से जीन्स डाला और पैर में हवाई चप्पल फटकारते हुए गाड़ी की चाबी लेकर गैरेज की ओर चल दिया। श्रीमती जी पीछे-पीछे कारण जानने को बढ़ लीं। उन्हें संक्षेप में सूचना देकर मैं चल पड़ा। पाँच मिनट में अस्पताल के भीतर…।

बाहर से लेकर भीतर तक शुभचिन्तकों और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों का जमावड़ा हो चुका था। मेरा मन धक्‌ से हुआ। एक आदमी ने बताया कि पाण्डे जी आई.सी.यू. में भर्ती हैं। मैंने दिल कड़ा करके भीतर प्रवेश किया। आदरणीया रीता जी से आँखें मिली। मुझे अचानक वहाँ देखकर वे चकित हुईं, फिर प्रसन्न सी मुद्रा में अभिवादन किया। मेरा मन तुरन्त हल्का हो गया। मैने चप्पल उतारकर गहन चिकित्सा कक्ष में प्रवेश कर लिया था, जिसके भीतर आठ-दस लोग पहले से ही थे। माहौल में कोई चिन्ताजनक छाया नहीं दिखी तो मैंने ज्ञानजी को मुस्कराकर प्रणाम किया। फिर उनके बायें हाथ में अपना हाथ थमाया। उन्होंने हाथ दबाकर यह जताया कि सबकुछ ठीक से काम कर रहा है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने निर्णय लिया कि सी.टी.स्कैन अभी करा लिया जाय ताकि चिन्ता की कोई बात न रहे। एम्बुलेन्स में बैठकर डायग्नोस्टिक सेन्टर चल पड़े। वहाँ जब मरीज भीतर चला गया तो दरवाजे के बाहर बेन्च पर बैठते ही मैने रीता जी से पूरा वाकया पूछ लिया। ….लोगों की हलचल अबतक प्रायः शान्त हो चुकी थी…। उन्होंने बताया कि साढ़े नौ बजे खाना खाने के बाद लेटते समय इनका बायाँ हाथ तेजी से काँपने लगा था और कुछ देर के लिए अनियन्त्रित सा हो गया था। कुछ मांसपेशियाँ शिथिल पड़ गयीं तो चिन्ता हो गयी कि कहीं पूरा बायाँ हिस्सा लकवाग्रस्त तो नहीं हो रहा है। ईश्वर की कृपा से ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है।

मैने कहा कि अब इन्हें कम्प्यूटर पर समय कम देना चाहिए। ब्लॉगरी के कारण ऐसे बेहाल हो जाएंगे तो दोष ब्लॉगरी को जाएगा। रीता जी ने कहा कि इनकी लम्बे समय तक बैठने की आदत नहीं छूट रही है। मैने पूछा कि ये तो रात में जल्दी सो जाते हैं फिर आज कैसे यह सब हो गया। वे बोलीं- जल्दी भले ही सो जाते हैं लेकिन अचानक तीन बजे नींद खुल जाय तो भी तुरन्त कम्प्यूटर पर पहुँच जाते हैं। ऑफिस से आने के बाद पहले लैप-टॉप ऑन होता है तब बाकी कोई काम। सुबह भी जल्दी उठकर उसी काम में लग लेते हैं। बगल में चिन्ताग्रस्त बैठे ‘बाबूजी’ ने बताया कि डेस्क टॉप के साथ लैपटॉप था ही, अब पामटॉप भी आ गया है, और मोबाइल से भी पोस्टिंग होती रहती है।

दाहिने हाथ में सुई लगी है।

24052010764 

“परमानेण्ट ऑन लाइन विदाउट ब्रेक।”  यह हाल तो हम इनका ऑउटपुट देखकर ही जान जाते हैं। उनके ऑफिस के एक सज्जन ने बताया कि आज ऑफिस में इन्हें ब्लॉगिंग को कम करने की सलाह दी गयी। सलाह देने वाले जबतक कमरे में थे तबतक तो इन्होंने गले में पट्टा डालकर सिर ऊँचा उठाये सबकी बात सुनने का धैर्य दिखाया लेकिन जैसे ही सबलोग चले गये , इन्होंने पट्टा निकाल के धर दिया और कम्प्यूटर पर फिर से झुक गये। फिर वही फीडरीडर खोलकर पढ़ना और टिप्पणी करना। …अब जो यह खुद ही बताते हैं कि ब्लॉग पढ़ने की चीज है तो करके दिखाएंगे ही…। लेकिन मुझे अब यह डर है इनकी हालत से भाई लोग यह न मान बैठें कि ब्लॉग वास्तव में पढ़ने की चीज नहीं है…। बड़े खतरे हैं इस राह में…।

रीता जी कहा कि हम सोच ही नहीं पाते कि यह (ब्लॉगरी) न करें तो करें क्या? यह तमाम दूसरे कामों से बेटर एन्गेजमेन्ट है। मुझे तो अबसे पाँच साल बाद की चिन्ता हो रही है। अभी तो रेलवे वाले इन्हें कुछ काम टिका देते हैं जिसमें अच्छा समय निकल जाता है। लेकिन बाद में क्या करेंगे यह सोचकर चिन्ता होती है…।

इसी चर्चा के बीच श्रीमन्‌ स्कैनिंग रूम से मुस्कराते हुए अपने पैरों पर चलते हुए बाहर आये और एम्बुलेन्स में जाकर बैठ गये।  दाहिने हाथ में लगे इन्जेक्शन के स्थान पर लगे रूई के टुकड़े को सम्हाले हुए ज्ञान जी को अकेला पाकर मैंने पूछ लिया कि इजाजत दें तो आपको कल ब्लॉगजगत के कठघरे में खड़ा किया जाय। उन्होंने मुझे मना नहीं किया तो मैने झटसे उनकी दो तस्वीरें उतार लीं। एक तस्वीर में इन्जेक्शन के दर्द को सम्हालते हुए और दूसरी में यह दिखाते हुए कि उन्हें कुछ खास नहीं हुआ है। सब कुछ ठीक ठाक है। यह सब रात साढ़े ग्यारह बजे की बात है।

रात भर अस्पताल में डॉक्टर की देखभाल में रहना है। मैने पूछा- लैप टॉप घर छोड़ आये क्या? कैसे कटेगी रात? रीता जी ने बताया कि चिन्ता की कोई बात नहीं है। कुछ बुक्स साथ में ले आये हैं।

अब आपलोग उन्हें जो कहना चाहें कहें। मैंने तो कह दिया कि अब तो बस करिए ज्ञानजी..…।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

Advertisements