सेमिनार रिपोर्ट… डेटलाइन लखनऊ (कल्याण से लौटकर)

टिप्पणी करे

ब्लॉग के बारे में विद्वानों की अद्‌भुत राय
…पिछली कड़ी से आगे
आपने हमारी लाइव रिपोर्ट्स और उनके बीच आये क्षेपक को पढ़ा ही होगा इसलिए अब हम बिना किसी भूमिका के सीधे प्रथम दिवस के अपराह्न सत्र की चर्चा करेंगे जो चाय विश्राम के बाद प्रारम्भ हुआ था। इस सत्र का विषय था – “ब्लॉगिंग की उपयोगिता” । इस भाग में तय कार्यक्रम के अनुसार कुल ११ वक्ताओं और एक संचालक को अपनी बात कहनी थी। वक्ताओं में एक अध्यक्ष, दो विषय विशेषज्ञ, दो विशेष अतिथि और छः प्रपत्र वाचक सम्मिलित थे। शाम चार बजे शुरु किए गये सत्र को पाँच बजे समाप्त हो जाना था। शुक्र है कि उसके बाद कोई और चर्चा सत्र नहीं था इसलिए संचालक की टोकाटाकी के बीच भी हम इसे सवा छः बजे तक खींच ले जाने में सफल रहे। एक अच्छी बात यह भी रही कि वक्ताओं में से दोनो विशेष अतिथि और एक प्रपत्र वाचक उपस्थित नहीं हुए, जिससे बाकी लोग कुछ अधिक समय पा सके।
संचालक डॉ.(श्रीमती) रत्ना निम्बालकर (संस्था की उप प्राचार्य) ने शुरू में ही बता दिया कि वे हिंदीभाषी नहीं हैं और वे अंत तक इस तथ्य की पुष्टि करती रहीं। उन्हें जो कहना था उसे उन्होंने लिखकर रखा था और बड़ी सावधानी से उसे पढ़ रही थीं। एक गैरहिंदीभाषी द्वारा इतना दत्तचित्त होकर हिंदी ब्लॉगिंग के चर्चा सत्र को संचालित करना हमें बहुत अच्छा लगा। ब्लॉगिंग विधा के लिए यह भी एक उपलब्धि है जो अलग-अलग भाषाओं को एक साथ जोड़ने का माध्यम बन रही है।
सर्व प्रथम प्रपत्र-वाचन का क्रम शुरू हुआ। यह प्रपत्र-वाचन आजकल बहुत ज्यादा प्रयोग किया जा रहा है। इसकी डिमांड अचानक बढ़ गयी है। मैंने पता किया तो लोगों ने बताया कि अब यूजीसी (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग) ने विश्वविद्यालयों और डिग्री कॉलेजों में कार्यरत सहायक प्रोफ़ेसर व एसोसिएट प्रोफ़ेसर की पदोन्नति के लिए यह जरूरी कर दिया है कि वे क्लास में लेक्चर देने के अलावा एक निश्चित संख्या में शोधपत्र तैयार करें और राष्ट्रीय स्तर के सेमिनार में हिस्सा लें। इस अनिवार्यता ने बहुत से अध्यापकों को ऐसे ‘राष्ट्रीय’ सेमिनारों की राह दिखा दी है। वे ऐसे विषयों पर भी किताबें पलट रहे हैं और इंटरनेट खंगाल रहे हैं जिनमें न तो उनकी कोई मौलिक रुचि रही है और न ही उसके अध्ययन-अध्यापन का कोई अनुभव रहा है। इस सेमिनार में भी जो प्रपत्र पढ़े गये उनकी विषयवस्तु और प्रस्तुतिकरण की शैली इसी बात की गवाही दे रही थी। यू.जी.सी. के इस फरमान ने ब्लॉगिंग को बहुत संबल दिया है। हम शुक्रगुजार हैं।

इस तीसरे सत्र से पहले भी करीब दर्जन भर प्रपत्र पढ़े जा चुके थे; मैंने उनकी विषयवस्तु सुन रखी थी और कुछ नोट भी कर लिया था। इसलिए मंचपर बैठे हुए मुझे बहुत कुछ नोट नहीं करना पड़ा। लगभग सभी ने ब्लॉग के बारे में इसकी उत्पत्ति, विकास और प्रसार की कहानी बतायी; कुछ प्रचलित, कुछ प्रसिद्ध और कुछ कम प्रसिद्ध ब्लॉग्स का नाम लिया और उद्धरण सुनाये; इसके लाभ गिनाये, इससे मिलने वाली अभिव्यक्ति की नयी आजादी की चर्चा की; और अंत में कुछ किंतु-परंतु के साथ इसकी कमियों पर दृष्टिपात किया। मुझे महसूस हुआ कि ये गिनायी गयी कमियाँ तथ्यात्मक विश्लेषण पर आधारित कम थीं और प्रायः प्रपत्र को संतुलन प्रदान करने के उद्देश्य से ही जोड़ी गयी थीं। जिस सत्र में मुझे विशेषज्ञ के रूप में बोलना था उसमें प्रपत्र वाचन करने वाले थे : शिरूर के डॉ. ईश्वर पवार, दिल्ली के डॉ.चन्द्र प्रकाश मिश्र, पश्चिम बंगाल के आशीष मोहता, दिल्ली की डॉ.विनीता रानी और मुम्बई के डॉ. विजय गाड़े।

ईश्वर पवार जी ने अपनी बात के बीच में कविता की चार पंक्तियाँ पढ़ी जिनपर तालियाँ बजी-

तुम हो तो ये घर लगता है,
वरना इसमें डर लगता है।
ख़ुलूस-ओ-मोहब्बत से तर है,
चले आइए ये अपना घर है।

मैं यह नोट नहीं कर पाया कि यह किस संन्दर्भ में कहा गया। फिर भी अच्छी भावुक कर देने वाली लाइने हैं इसलिए बता देना उचित लगा। उन्होंने आगे कहा कि ब्लॉग (पोस्ट) की उम्र बहुत कम होती है। जल्द ही लोग इसे भुला देते हैं। इसकी उम्र लम्बी करने के लिए उपाय खोजे जाने चाहिए। यह भी खोजा जाना चाहिए कि शिक्षा के क्षेत्र में ब्लॉग का प्रयोग कैसे किया जा सकता है। उन्होंने ब्लॉग को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी बनाये जाने पर बल दिया। इस माध्यम की कमियों के रूप में उन्होंने यह बात बतायी कि ब्लॉग के आ जाने के बाद नयी पीढ़ी इस ओर चली आ रही है और बड़ा साहित्य पढ़े जाने से वंचित हो जा रहा है। इसी क्रम में उन्होंने यह जुमला भी उछाल ही दिया कि आजकल के युवा पहले ई-मेल से संबंध बना रहे हैं और बाद में फीमेल से। इसपर उन्हें उम्मीद थी कि तालियाँ बजेंगी लेकिन शायद यह चुटकुला सबको पहले से ही पता था।

अगले वक्ता के रूप में डॉ. चन्द्र प्रकाश मिश्र अपना ‘पेपर’ लेकर तो आये, लेकिन बोलते रहे बिना पढ़े ही। एक कारण तो यह था कि वे इस विषय के अच्छे जानकार हैं और बहुत अवसरों पर वार्ता दे चुके हैं, किताबे भी लिख चुके हैं; लेकिन दूसरा महत्वपूर्ण कारण यह था कि उनके पर्चे की अधिकांश बातें दूसरे वक्ता पहले ही बोल चुके थे। उन्होंने डॉ.सुभाष राय को उद्धरित करते हुए कहा कि “ब्लॉग लेखन असंतोष से उपजेगा।” अन्ना हजारे के आन्दोलन का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि व्यवस्था के प्रति युवा मन में जो आक्रोश पैदा हो रहा है उसे स्वर देने में ब्लॉग का माध्यम पूरी तरह सक्षम है और इसका उपयोग बढ़-चढ़कर हो रहा है। उन्होंने इस माध्यम के बारे में तमाम आशावादी बातें बतायीं और यह भी कहा कि इसे निरंकुश माध्यम कतई न माना जाय। हर ब्लॉगर को यह पता होना चाहिए और “पता है” कि निरंकुशता का वही हश्र होता है जो सद्दाम हुसेन और कर्नल गद्दाफ़ी का हुआ। उन्होंने कहा कि ब्लॉगर को किसी संपादक या सिखाने वाले की जरूरत नहीं है। वह ‘आपै गुरू आपै चेला’ है। उन्होंने प्रिन्ट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (न्यूज चैनेल) में आने वाली गिरावट का जिक्र किया, नीरा राडिया टेपों और पेड न्यूज का उदाहरण देते हुए ललित शर्मा के वक्तव्य की चर्चा की जिसके अनुसार “ब्लॉगर मीडिया की बखिया उधेड़ रहे हैं”। चन्द्र प्रकाश जी ने कहा कि जहाँ तक ब्लॉग की उपयोगिता और इसके लिए विषय चुने जाने का सवाल है तो उसका एक शब्द में उत्तर है- “अनन्त”। इसके शीघ्र बाद उन्होंने अपनी वार्ता समाप्त कर दी।

कोलकाता से पाँच वर्ष की ब्लॉगिंग का अनुभव लेकर आये आशीष मोहता ने ‘विषय वस्तु की विशिष्टता’ (Specialization of Content) पर जोर दिया। उन्होंने ब्लॉगर को अपनी रुचि और विशेषज्ञता के अनुसार कोई खास विषय चुनने और उसे उपयोगी व आकर्षक रूप में प्रस्तुत करने की सलाह दी। उदाहरणार्थ उन्होंने पाकशास्त्र के जानकारों को लजीज व्यंजन बनाने का वीडियो तैयारकर उसे पॉडकास्ट करने का सुझाव दिया। इसी प्रकार अनेक ऑडियो-विज़ुअल और टेक्स्ट डिजाइन आधारित विशिष्ट विषयों के ब्लॉग बनाये जा सकते हैं।

दिल्ली की डॉ. विनीता रानी ने, जो पेशे से शिक्षिका हैं अपना पर्चा पूरे आत्मविश्वास से पढ़ा जो सुरुचिपूर्वक तैयार किया गया था। उन्होंने बताया कि ब्लॉग बीसवीं शताब्दी की सबसे बड़ी उपलब्धि है। इसे सामाजिक सरोकारों से जोड़ा जाना चाहिए। इसे समाज के हाशिए पर रहने वालों की आवाज़ बनाया जा सकता है। कभी कभी हमें अपना दुःख अभिव्यक्त कर लेने से भी मन को राहत मिल जाती है। दुःख और शोषण से मुक्ति दिलाने की दिशा में बड़ा योगदान हो सकता है यदि ब्लॉग इसके लिए जोरदार आवाज उठाएँ। इसे आपसी लड़ाई लड़ने के लिए निजी अखाड़े के रूप में प्रयोग नहीं करना चाहिए। वैसे तो इसका प्रयोग हर पढ़ा-लिखा व्यक्ति अपने-अपने तरीके से कर सकता है लेकिन सृजनात्मक प्रतिभा के धनी व्यक्ति के लिए यह माध्यम बहुत उपयोगी है।

मुम्बई के ही किसी कॉलेज में प्राध्यापक डॉ. विजय गाड़े ने अपना पर्चा उलट कर रख दिया और अपनी बात सीधे कहने लगे। उनकी शैली में मराठी भाषा का इतना जबरदस्त प्रभाव था कि हम बहुत सी बाते चाहकर भी समझ नहीं पाये, नोट करने में तो दिक्कत थी ही। फिर भी उनकी दो बातें मुझे जरूर समझ में आ गयीं। पहली यह कि कम्प्यूटर पर अधिक समय देने वाले समाज से कट जाते हैं। उन्होंने कहा कि हम दुनिया के बारे में तो तमाम बातें जान जाते हैं लेकिन पड़ोस में क्या हो रहा है इसकी खबर तक नहीं होती। दूसरी बात यह कि नेट आधारित माध्यम का नुकसान सबसे अधिक किताबों को हो रहा है। उन्होंने एक अज्ञात शायर का शेर सुनाया-

बच्चे तो टीवी देखकर खुश हुए जनाब।
दुख इस बात का है कि बेवा हुई किताब॥

इस शेर के बाद भी उन्होंने संचालक के इशारों के बीच कुछ बातें की लेकिन मुझे उनकी सुध नहीं रही क्योंकि उनके तुरन्त बाद मुझे बोलना था।

इतना बताता चलूँ कि मैंने वर्ष २००८ में ब्लॉगिंग शुरू करने के बाद इस आभासी दुनिया के चेहरों को वास्तविक रूप में श्रोताओं के आमने-सामने लाने के तीन बड़े कार्यक्रमों– (i) ब्लॉगिंग की पाठशाला, (ii)चिठ्ठाकारी की दुनिया, (iii) चिठ्ठाकारी की आचारसंहिता के आयोजन और ऐसे अनेक छोटे-बड़े अवसरों में उपस्थित रहने का सौभाग्य पाया है लेकिन विषय विशेषज्ञ के रूप में अपनी बात कहने का मौका शायद पहली ही बार मिला था। अस्तु, मैं बड़े उहापोह में था कि कहाँ से बात शुरू करूँ और क्या-क्या बता दूँ। समय की कमी की ओर बार-बार इशारे हो रहे थे लेकिन जब मैंने माइक सम्भाला तो कई बातें कर डाली:

मैने इस सेमिनार के आयोजकों को साधुवाद दिया और बोला कि अबतक ब्लॉगिंग के ‘स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाओं’ के बारे में बहुत सी चर्चा हो चुकी है; इसका परिचय देने के लिए कुछ बाकी नहीं है; इसकी क्या-क्या उपयोगिता हो सकती है इसपर भी अनेक सुझाव आये हैं; मैं आगे चलकर उनमें कुछ जोड़ना चाहूँगा; लेकिन यहाँ इस माध्यम के बारे में जो शंकाएँ उठायी गयी हैं उनके बारे में स्थिति स्पष्ट करना जरूरी समझता हूँ इसलिए मैं सबसे पहले यह माध्यम जिस पृष्ठभूमि में अवतरित हुआ है उसओर आपका ध्यान दिलाना चाहूँगा।

यदि आप मानव सभ्यता के विकास की कहानी पर ध्यान देंगे तो पाएंगे कि समुद्र से जंगल और जंगल से बाहर निकलकर सभ्य समाज की स्थापना की लम्बी यात्रा में मनुष्य के रहन सहन के तरीके में जो बड़े बदलाव आये हैं वे किसी न किसी बड़ी वैज्ञानिक खोज या तकनीकी अविष्कार के कारण ही आये हैं। जब हमने पहली बार आग की खोज की तो खाने का स्वाद बदल गया, पहिया या चक्का बनाना आया तो हमारी गति बदल गयी, धातु की खोज हुई और हथियार बनाना सीख लिया तो बेहतर शिकारी और पशुपालक बन गये। अन्न उगाना सीख लिया तो घुमक्कड़ी छोड़ स्थायी नगर और गाँव बसाने लगे। नदी-घाटी सभ्यताएँ विकसित हो गयीं। कपड़े बनाना सीख लिया तो कायदे से तन ढकने लगे, अधिक सभ्य हो गये। भोजपत्र पर अक्षर उकेरने लगे तो पठन-पाठन का विकास हुआ। कागज बना और छापाखाना ईजाद हुआ तो लोगों को किताबे मिलने लगी। ज्ञान विज्ञान का प्रसार हुआ। लोग अँधेरे से निकलकर उजाले की ओर आने लगे। नवजागरण हुआ। बड़े पैमाने पर उत्पादन की तकनीकें विकसित हुईं तो बड़े कल कारखाने स्थापित हुए और उनके इर्द-गिर्द बस्तियाँ बसने लगी। कामगारों का विस्थापन हुआ। समुद्री नौकाएँ बनी तो नये महाद्वीप खोजे गये। अंतरराष्ट्रीय व्यापार होने लगा। औद्यौगिक क्रान्ति हुई।
इस प्रकार हम देखते हैं कि जब भी कोई बड़ी तकनीकी खोज आयी उसने हमारे रहन-सहन के तरीके में युगान्तकारी परिवर्तन कर दिया। इतना बड़ा परिवर्तन कि यह कल्पना करना कठिन हो जाय कि पहले के लोग इसके बिना रहते कैसे होंगे। रेलगाड़ी के बिना लम्बी यात्राएँ कैसे होती होंगी कंप्यूटर के बिना आम जनजीवन कैसे चलता होगा, यह सोच पाना कठिन है। मोबाइल का उदाहरण तो बिल्कुल हमारे सामने पैदा हुआ है। अबसे दस पन्द्रह साल पहले जब मोबाइल प्रचलन में नहीं था तब लोग कैसे काम चलाते थे?  आज हमें यदि वैसी स्थिति में वापस जाना पड़े तो कितनी कठिनाई आ जाएगी?
इस परिप्रेक्ष्य में यदि हम ब्लॉग के आविर्भाव को देखें तो पाएंगे कि सूचना क्रांति के इस युग में विचार अभिव्यक्ति का यह ऐसा माध्यम हमारे हाथ लगा है जो एक नये युग का प्रवर्तन करने वाला है। एक लोकतांत्रिक समाज में रहते हुए हमें जो मौलिक अधिकार मिले हुए थे उनका सर्वोत्तम उपयोग कर पाने का अवसर हममें से कितनों के पास था? हम कितने लोगों से अपनी बात कह पाते थे और कितने लोगों की प्रतिक्रिया हम जान पाते थे? इस माध्यम ने हमें अनन्त अवसर दे दिये हैं जिनका सदुपयोग करने की जिम्मेदारी हमारी है।

मैं इस संगोष्ठी में उठायी गयी कुछ आशंकाओं ्की चर्चा करना चाहूँगा। कल शशि मिश्रा जी ने बहुत ही भावुक कर देने वाला आलेख पढ़ा। खासकर महिला ब्लॉगर्स द्वारा लिखे गये ब्लॉगों से सुन्दर उद्धरण प्रस्तुत किये। लेकिन उन्हें इस बात का अफसोस था कि अब अपने इष्ट मित्रों, स्नेही स्वजनों को लिखकर भेजे जाने वाला पोस्टकार्ड विलुप्त हो गया है। चिठ्ठी लिखना, लिफाफे में भरकर डाक के हवाले करना और हफ्तो महीनों उसके जवाब का इन्तजार करना एक अलग तरह का सुख देता था। अब यह सब इतिहास हो जाएगा। मैं पूछता हूँ – क्या बिहारीलाल की बिरहिणी नायिका का दुःख सिर्फ़ इसलिए बनाये रखा जाना चाहिए कि उसके वर्णन में एक साहित्यिक रस मिलता है? क्या आज संचार के आधुनिक साधनों ने हमें अपने स्वजनों की कुशलक्षेम की चिन्ता से मुक्त नहीं कर दिया है? हमें अपनों के बारे में पल-पल की जानकारी मिलती रहे तो मन में बेचैनी नहीं रहती। यह स्थिति प्रसन्न रहने की है या अफ़सोस करने की?

अभी एक सज्जन ने कहा कि कम्प्यूटर के माध्यम से हम दुनिया से तो जुट जाते हैं लेकिन पड़ोस में क्या हो रहा है इसका पता नहीं चलता। मेरी समझ से ऐसी स्थिति उनके साथ होती होगी जो कम्प्यूटर और इन्टरनेट का प्रयोग गेम खेलने और पोर्नसाइट्स देखने के लिए करते होंगे। मैं बताना चाहता हूँ कि जिसे ब्लॉगिंग के बारे में कुछ भी पता है वह ठीक इसका उल्टा सोचता होगा। एक ब्लॉगर के रूप में आप कम्प्यूटर और इंटरनेट से जुड़कर क्या करते हैं? आपका कंटेंट क्या होता है? जबतक आप अपने आस-पास के वातावरण के प्रति संवेदनशील नहीं होंगे, अपने घर-द्वार, कार्यालय और नजदीकी समाज के बारे में कुछ चिंतन नहीं करेंगे तबतक आप क्या इनपुट देंगे? किस बात के बारे में पोस्ट लिखेंगे? मैं तो समझता हूँ कि एक सामान्य व्यक्ति के मुकाबले एक ब्लॉगर अपने आँख कान ज्यादा खुले रखता है। एक पोस्ट के जुगाड़ में वह सदैव खोज करता रहता है। मूर्धन्य ब्लॉगर ज्ञानदत्त पांडेय जी की पोस्टें देखिए उनके घर के पास बहने वाली गंगा जी के तट पर रहने वाले तमाम जीव-जन्तु और मनुष्य उनकी पोस्टों के नियमित पात्र हैं। उनके पड़ोस के बारे में उनके साथ-साथ हम भी बहुत कुछ जान गये हैं और वैसी ही ही दृष्टि विकसित करना चाहते हैं। यहाँ तक कि सोशल नेटवर्किंगसाइट्स से जुड़े लोग भी अपने आसपास पर निकट दृष्टि रखते हैं, ब्लॉगर्स के तो कहने ही क्या?

यहाँ कुछ वक्ताओं द्वारा पुस्तकों के घटते महत्व और हमारी संस्कृति से जुड़ी तमाम बातों के लुप्त होने पर चिन्ता व्यक्त की गयी। मैं यहाँ यह कहना चाहूँगा कि ब्लॉग लेखन इस समस्या का कारण नहीं है बल्कि यह इसका समाधान है। हमारे कितने ब्लॉगर बन्धु अच्छी-अच्छी किताबें पढ़ते हैं और उसकी समीक्षा लिखते हैं। दूसरों को पढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं। बहुत सा उम्दा साहित्य ब्लॉग और साइट्स के माध्यम से इंटरनेट पर अपलोड किया जा रहा है। अनूप शुक्ल जी ने अपने कुछ मित्रों के साथ मिलकर ‘राग दरबारी’ जैसे कालजयी उपन्यास को एक ब्लॉग बनाकर उसपर पोस्ट कर दिया है। वर्धा विश्वविद्यालय की साइट हिंदी-विश्व पर उत्कृष्ट हिंदी साहित्य के दस लाख पृष्ठ अपलोड करने की योजना चल रही है। रवि रतलामी ने ‘रचनाकर’ पर तमाम साहित्य चढ़ा रखा है। आज यदि आप यह सोच रहे हैं कि बच्चे कम्प्यूटर शट-डाउन करके लाइब्रेरी जाएँ और साहित्यिक किताबें इश्यू कराकर पढ़ें तो आपको निराशा होगी। करना यह होगा कि लाइब्रेरी के साहित्य को ही यहाँ उठाकर लाना होगा। ब्लॉग इस काम के लिए सबसे अच्छा और सहज माध्यम है।

हमारी सांस्कृतिक विरासत को सहेजने में भी ब्लॉग बहुत हद तक समर्थ है। मैंने अपनी एक ब्लॉग पोस्ट का उदाहरण दिया जिसमें गाँवों में पहले कूटने-पीसने के लिए प्रयुक्त ढेंका और जाँता के बारे में बताया था। उन यन्त्रों के बारे में आगे की पीढ़ियाँ कुछ भी नहीं जान पाएंगी यदि हमने उनके बारे में जानकारी यहाँ सहेजकर नहीं रख दी। उनसे उपजे मुहाबरे और लोकोक्तियों का अर्थ रटना पड़ेगा क्योंकि उन्हें समझना मुश्किल हो जाएगा। देश दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में मनाये जाने वाले पर्व त्यौहार कैसे होते हैं, क्या रीति-रिवाज व्यवहृत हैं इनके बारे में प्रथम स्तर की सीधी जानकारी ब्लॉग नहीं देगा तो कौन देगा?

पिछले सत्र में किसी ने बहुत ही सही बात कही कि एक तेज चाकू की धार से ्कुशल सर्जन द्वारा शल्यक्रिया करके किसी की जान बचायी जाती है और वही चाकू जब कोई विवेकभ्रष्ट अपराधी थाम लेता है तो किसी की हत्या तक कर देता है। इसलिए किसी भी साधन के प्रयोग में विवेक का सही प्रयोग तो महत्वपूर्ण शर्त होगी ही। इससे हम कत्तई इन्कार नहीं कर सकते कि ब्लॉग के माध्यम का प्रयोग भी पूरी जिम्मेदारी से सकारात्मक उद्देश्य के लिए किया जाना चाहिए। हम अपने आप को गौरवान्वित महसूस करें कि हम सभ्यता के विकास के ऐसे सोपान पर खड़े हैं जो एक और युगान्तकारी परिवर्तन का साक्षी है। अभिव्यक्ति की जो नयी आजादी मिली है वह गलत हाथों में पड़कर जाया न हो जाय इसलिए हमें पूरी दृढ़ता से अपने विवेक का प्रयोग करते हुए इसके सदुपयोग को सुनिश्चित करना चाहिए जिससे मानवता की बेहतर सेवा  हो सके।

मेरे बाद शैलेश भारतवासी को आमंत्रित किया गया जिन्होंने संक्षिप्त किंतु बहुत उपयोगी बातें रखीं। इस पोस्ट की शब्दसीमा का पहले ही उल्लंघन किया जा चुका है इसलिए अब और विस्तार न देते हुए अपनी बात समाप्त करता हूँ। हाँ इतना और बताता चलूँ कि मैंने सत्राध्यक्ष डॉ. शीतला प्रसाद पांडे जी की अनुमति से अपना रचा हुआ एक गीत भी लैपटॉप खोलकर मंच से सुना दिया। आपने यदि नहीं पढ़ा हो तो यहाँ पढ़ लीजिए। जुलाई २००८ में रचित यह गीत आज भी प्रासंगिक जान पड़ता है।

यदि समय ने साथ दिया तो आयोजन की कुछ झलकियाँ चित्रों के माध्यम से प्रस्तुत करूंगा। धन्यवाद।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

Advertisements

मई के मजे, जून की जन्नत और जुलाई की जुदाई

21 टिप्पणियाँ

 

इस बार की गर्मी बहुत अच्छे से गुजर गयी। 

  • विदर्भ क्षेत्र की गर्मी भयाक्रांत करने वाली होती है। इस साल भी वर्धा में पारा 49.5 डि.से. तक पहुँच गया था। हम जैसे तराई क्षेत्र वाले के लिए यह लगभग असह्य होता। इसलिए गर्मी तेज होने से पहले ही बच्चों को मार्च की परीक्षा के तत्काल बाद लखनऊ पहुँचा आया था।  पंद्रह मई के बाद अर्जित अवकाश लेकर खुद भी वर्धा से निकल गया।
  • लखनऊ के सुहाने मौसम और प्रायः निर्बाध विद्युत आपूर्ति के बीच ऊमस और गर्मी का प्रकोप अधिक नहीं झेलना पड़ा। बस घर के भीतर सत्यार्थ (४) और वागीशा (१०) यही वादा कराते रहे कि मैं अब उन्हें छोड़कर वर्धा नौकरी करने नहीं जाऊंगा। पत्नी का मन रखने के लिए शासन में जाकर अपने आला हाकिम से मिल आया और अर्जी डाल दी। इसी दौरान कुछ अधिकारी मित्रों से टुकड़े-टुकड़े चर्चा हुई और मोहन बाबू की कहानी की रचना हो गयी।
  • चचेरी बहन की शादी थी। २१ मई को। हम लड़की वाले बाराती बनकर लड़के वालों के शहर बनारस गये। उनलोगों ने ही सारा इन्तजाम कर रखा था। सभी मेहमानों की आव-भगत वर पक्ष ने की। हम लड़की वाले थे लेकिन चिंतामुक्त थे। वे लड़के वाले थे बस इस बात से खुश कि बारात सजाकर गोरखपुर जाने और आने का उनका समय बच गया। काम-धंधे में रुकावट कम होगी। अस्तु सज्जनतावश लड़की के बाप की तरह हाथ जोड़े सबकी कुशल क्षेम लेते रहे। हमने जमकर शादी का लुत्फ़ उठाया और अगले दिन घरवालों के साथ गोरखपुर लौट गये। डॉ.अरविंद मिश्र जी ने पहले ही बता दिया था कि उस दिन वे अन्यत्र किसी दूसरी शादी में व्यस्त रहेंगे इसलिए उनसे मुलाकात न हो सकी।
  • अगले सप्ताह २८ मई को ससुराल में साली की शादी थी। लद-फदकर सपरिवार पहुँचे। वरपक्ष भी हमारे पुराने रिश्ते में था। दोनो तरफ़ से आव-भगत हुई। सास, ससुर, साला, साली, सलहज, साढ़ू, सरपुत, मामा, मामी, मौसी, मौसा, फूआ, फूफा, चाचा, चाची, भैया, भाभी, भतीजा, भतीजी, भान्जा, भान्जी, बहन, बहनोई आदि ढेर सारे रिश्तेदारों व यार-दोस्तों से मिलना हुआ। ये शादी-ब्याह न पड़े तो इन सबसे मुलाकात कहाँ हो पाए…!
  • दोनो शादियों के बीच गाँव जाना हुआ। कई दिनों से बिजली नहीं आ रही थी। पिताजी के सान्निध्य में पाकड़ के पेड़ के नीचे खटिया डाले निखहरे लेटे रहे।  अचानक भंडार कोने (नैऋत्य कोण) से काले भूरे बादल उठे और अंधेरा सा छा गया। धूल भरी आँधी देख चप्पल निकालकर नंगे बदन बाग की ओर दौड़े। आम भदभदाकर गिर रहे थे। दौड़-दौड़कर बीनते रहे। देखते-देखते बोरा भर गया। फिर जोर की बारिश शुरू हुई। झूम-झूमकर भींगते रहे। मानो बचपन लौट आया। इतना भींगे कि ठंड से दाँत बजने लगे। घर लौटे तो अम्मा तौलिया और सूखे कपड़े लेकर खड़ी थीं।
  • एक दिन बाराबंकी जिले की रामनगर तहसील जाना हुआ। nice-फेम ‘सुमन जी’ ने बुला लिया था। डॉ.सुभाष राय और रवीन्द्र प्रभात जी का साथ मिला था। वहाँ तहसील परिसर के सभागार में सुमन जी ने महफिल जमा रखी थी। स्थानीय कविगण काव्यपाठ कर रहे थे। तहसील के तमाम वकील और मुवक्किल व दूसरे बुद्धिजीवी जमा थे। लोक संघर्ष पत्रिका के ताजे अंक का लोकार्पण होना था और रवीन्द्र प्रभात जी का सम्मान। सुभाष जी का भाषण कार्यक्रम की उपलब्धि रही। सुमन जी अपनी पत्रिका के सभी अंको का लोकार्पण हरबार इसी प्रकार किसी बड़े बुद्धिजीवी के हाथों कराते हैं। हमें भी फूलमाला और स्मृति चिह्न से नवाजा गया। nice.
  • लखन‍ऊ लौटकर बच्चों के साथ खूब मौज हुई। डाल के पके आमों की डाली सजाये साले साहब सपरिवार पधारे। घर में बच्चों की संख्या बढ़ गयी। सहारागंज, चिड़ियाघर, भूल-भुलैया, इमामबाड़ा और हजरत गंज की सैर में दिन तेजी से निकल गये। अचानक पता चला कि वर्धा की गाड़ी पकड़ने का दिन आ गया। वाटर-पार्क जाने का मौका ही नहीं मिला। तय हुआ कि उन्हें अगले दिन बच्चों के मामाजी ले जाएंगे।
  • जब बादशाहनगर स्टेशन पर राप्तीसागर एक्सप्रेस में बैठकर वर्धा फोन लगाया तो फरमाइश हुई कि लखन‍ऊ से आ रहे हैं तो आम जरुर लाइए। चारबाग स्टेशन पर गाड़ी से उतरकर मलीहाबादी दशहरी तलाशता रहा, बाहर सड़क तक गया लेकिन रेलवे परिसर के आस-पास से दुकानें नदारद थीं। दौड़ता-हाँफता खाली हाथ वापस अपने डिब्बे तक पहुँचा। गाड़ी चल पड़ी। आम मिले तो कैसे?
  • चलती गाड़ी में अपनी कन्फ़र्म बर्थ पर बैठते ही सबसे पहले यह ध्यान में आया कि यदि मैं ब्लॉगर न होता तो यात्रियों की जबरदस्त आवाजाही के इस व्यस्त सीजन में शायद  वह सीट भी नहीं मिली होती। इस बैठे-ठाले काम से जुड़कर हमें कितने भले लोगों से जुड़ने का मौका मिला यह बड़े सौभाग्य की बात है। हम अपने को गौरवान्वित महसूस कर ही रहे थे कि मन में आम न खरीद पाने की समस्या का समाधान भी कौंध गया। मैने झट फोन मिलाया और अगले स्टेशन पर पाँच किलो दशहरी  के साथ एक मूर्धन्य ब्लॉगर मेरे डिब्बे के सामने अवतरित हो गये। उनका नाम गोपनीय इसलिए रखना चाहता हूँ कि आगे से उनका बोझ न बढ़ जाय। Smile हमने दस मिनट के भीतर पूरी दुनिया की बातें की। कितनी ही त्वरित टिप्पणियाँ की गयीं और तमाम गुटों का हाल-चाल लिया-दिया गया। बातों की रौ में हमने आम का दाम भी पूछना मुनासिब न समझा। उनके स्नेह को मैं किसी प्रकार कम नहीं कर सकता था। 
  • अब वर्धा आ पहुँचा हूँ तो ध्यान आया कि यदि मैंने इस मौज मस्ती के बीच थोड़ा समय कम्प्यूटर पर दिया होता तो अनेक पोस्टें निकल आयी होतीं। लेकिन लम्बे प्रवास के बाद घर लौटने का सुख कुछ ऐसा डुबा देने वाला था कि इस ओर ध्यान ही नहीं गया। अब यह सब ब्लॉग पोस्ट की दृष्टि से कुछ पुराना हो गया है इसलिए उनका उल्लेख भर कर पा रहा हूँ।
  • वर्धा में बारिश का सुहाना मौसम शुरू हो चुका है लेकिन विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस के कमरे में अकेले पड़े रहना रास नही आ रहा है। अभी जुलाई नहीं आयी है लेकिन बच्चों से जुदाई शुरू हो गयी है। सोचता हूँ यहाँ से भाग जाऊँ।Open-mouthed smile

चलते-चलते लखनऊ के चिड़ियाघर से लिया गया यह चित्र लगाता हूँ जो मेरी अनुपस्थिति में रचना त्रिपाठी द्वारा लिया गया था। मैं वहाँ से अनुपस्थित इसलिए था कि वहाँ समीप ही जनसंदेश टाइम्स अखबार का दफ़्तर था ; उसके सम्पादक की कुर्सी पर डॉ. सुभाष राय बिराज रहे थे और वे स्वयं एक ब्लॉगर होने के नाते मुझे बतकही के लिए आमंत्रित कर चुके थे। जब दो ब्लॉगर मिल जाँय तो चिड़ियाघर की भला क्या बिसात…? Smile

तेज धूप में बरगद की छाँव तले आराम करते मृगशावक और बारहसिंगे

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी) 

पढ़ना, पढ़वाना और लिखना साथ-साथ…

17 टिप्पणियाँ

 

wife-scoldआजकल मुझे डाँटने वालों की फ़ेहरिश्त लम्बी होती जा रही है। प्रदेश सरकार की नौकरी से छुट्टी लेकर घर से हजार किलोमीटर दूर आ गया और केंद्रीय विश्वविद्यालय में काम शुरू किया तो माता-पिता ही नाराज हो गये। भाई-बंधु, दोस्त-मित्र और रिश्तेदार भी फोन पर ताने मारने लगे कि क्या मिलेगा यहाँ जो वहाँ नहीं था। ऊल-जलूल मुद्दों को लेकर सुर्खियों में छाये रहने वाले एक विश्वविद्यालय से जुड़कर ऐसा क्या ‘व्यक्तित्व विकास’ कर लोगे?

बच्चे और पत्नी तो जैसे एक बियाबान जंगल में फँस जाने का कष्ट महसूस करने लगे हैं। …ना कोई पड़ोस, ना कोई रिश्तेदार और ना कोई घूमने –फिरने लायक सहज सुलभ स्थान। …कहीं जाना हो तो दूरी इतनी अधिक की कार से नहीं जा सकते। रेलगाड़ी में टिकट डेढ़-दो महीना पहले बुक कराने पर भी कन्फ़र्म नहीं मिलता। शादी-ब्याह के निमंत्रण धरे रह जाते हैं और सफाई देने को शब्द नहीं मिलते। किसने कहा था आपसे यह वनवास मोल लेने को..?

लेकिन मैं खुद को समझाता रहता हूँ। प्रदेश सरकार की नौकरी में ही क्या क्वालिटी ऑफ़ लाइफ़ थी। दिनभर बैल की तरह जुते रहो। चोरी, बेईमानी, मक्कारी, धुर्तता धूर्तता, शोषण, अनाचार, अक्षमता, लापरवाही, संत्राष संत्रास, दुख, विपत्ति, कलुष, अत्याचार, बेचारगी, असहायता इत्यादि के असंख्य उदाहरण  आँखों के सामने गुजरते रहते और हम असहाय से उन्हें देखते रहते। सिस्टम का अंग होकर भी बहुत कुछ न कर पाने का मलाल सालता रहता और मन उद्विग्न हो उठता। बहुत हुआ तो सत्यार्थमित्र  के इन पृष्ठों पर अपने मन की बात पोस्ट कर दी। लेकिन उसमें भी यह सावधानी बरतनी होती कि सिस्टम के आकाओं को कुछ बुरा न लग जाय; नहीं तो लेने के देने पड़ जाँय। कम से कम यहाँ वह सब आँखों से ओझल तो हो गया है। यहाँ आकर शांति से अपने मन का काम करने का अवसर तो है।

हिंदी साहित्य की विविध विधाओं में जो कुछ भी अच्छा लिखा गया है; अर्थात्  क्लासिक साहित्य के स्थापित रचनाकारों की लेखनी से निसृत शब्दों का अनमोल खजाना, उसे हिंदीसमय[डॉट]कॉम पर अपलोड करने का जो सुख मुझे यहाँ मिल रहा है वह पहले कहाँ सुलभ था। प्रिंट में उपलब्ध उत्कृष्ट सामग्री को यूनीकोड में बदलकर इंटरनेट पर पठनीय रूप रंग में परोसने की प्रक्रिया में उन्हें पढ़कर जो नैसर्गिक सुख अपने मन-मस्तिष्क को मिलता है वह  पहले कहाँ था?

कबीर ग्रंथावली के समस्त दोहे और पद अपलोड हुए तो इनके भक्तिरस और दर्शन में डूबने के साथ-साथ इसके संपादक डॉ. श्याम सुंदर दास की लिखी प्रस्तावना से भक्तिकाल के संबंध में बहुत कुछ जानने को मिला-

“…कबीर के जन्म के समय हिंदू जाति की यही दशा हो रही थी। वह समय और परिस्थिति अनीश्वरवाद के लिए बहुत ही अनुकूल थी, यदि उसकी लहर चल पड़ती तो उसे रोकना बहुत ही कठिन हो जाता। परंतु कबीर ने बड़े ही कौशल से इस अवसर से लाभ उठाकर जनता को भक्तिमार्ग की ओर प्रवृत्त किया और भक्तिभाव का प्रचार किया। प्रत्येक प्रकार की भक्ति के लिए जनता इस समय तैयार नहीं थी।

मूर्तियों की अशक्तता वि.सं. 1081 में बड़ी स्पष्टता से प्रगट हो चुकी थी जब कि मुहम्मद गजनवी ने आत्मरक्षा से विरत, हाथ पर हाथ रखकर बैठे हुए श्रद्धालुओं को देखते-देखते सोमनाथ का मंदिर नष्ट करके उनमें से हजारों को तलवार के घाट उतारा था। गजेंद्र की एक ही टेर सुनकर दौड़ आने वाले और ग्राह से उसकी रक्षा करने वाले सगुण भगवान जनता के घोर संकटकाल में भी उसकी रक्षा के लिए आते हुए न दिखाई दिए। अतएव उनकी ओर जनता को सहसा प्रवृत्त कर सकना असंभव था। पंढरपुर के भक्तशिरोमणि नामदेव की सगुण भक्ति जनता को आकृष्ट न कर सकी, लोगों ने उनका वैसा अनुकरण न किया जैसा आगे चलकर कबीर का किया; और अंत में उन्हें भी ज्ञानाश्रित निर्गुण भक्ति की ओर झुकना पड़ा।…”

मोहन राकेश का लिखा पहले बहुत कम पढ़ पाया था लेकिन जब उनकी रचनाओं का संचयन (कहानी, डायरी, यात्रा-वृत्त, उपन्यास, निबंध आदि) अपलोड करना हुआ तो बीच-बीच में काम रोककर उनकी शब्दों की सहज जादूगरी में डूबता चला जाता था। एक बानगी देखिए-

“पत्रिका के कार्यालय में हम चार सहायक सम्पादक थे। एक ही बड़े से कमरे में पार्टीशन के एक तरफ़ प्रधान सम्पादक बाल भास्कर बैठता था और दूसरी तरफ़ हम चार सहायक सम्पादक बैठते थे। हम चारों में भी एक प्रधान था जिसे वहाँ काम करते चार साल हो चुके थे। एक ही लम्बी डेस्क के साथ चार कुरसियों पर हम लोग बैठते थे। छोटे प्रधान की कुरसी डेस्क के सिरे पर खिडक़ी के पास थी और हम तीनों की कुरसियाँ उसके बाद वेतन के क्रम से लगी थीं। छोटे प्रधान उर्फ बड़े सहायक सुरेश का वेतन दो सौ रुपये था। उसके बाद लक्ष्मीनारायण था जिसे पौने दो सौ मिलते थे। तीसरे नम्बर पर मेरी एक सौ साठ वाली कुरसी थी और चौथे नम्बर पर डेढ़ सौ वाली कुरसी पर मनोहर बत्रा बैठता था। छोटा प्रधान सबसे ज़्यादा काम करता था, क्योंकि प्रूफ़ देखने के अलावा उसे हम सब पर नज़र भी रखनी होती थी और जब सम्पादक के कमरे में घंटी बजती, तो उठकर आदेश लेने के लिए भी उसी को जाना होता था। वह दुबला-पतला हड्डियों के ढाँचे जैसा आदमी था, जिसे देखकर यह अन्देशा होता था कि बार-बार उठने-बैठने में उसकी टाँगें न चटक जाएँ। सम्पादक को हममें से किसी से भी बात करनी होती, तो पहले उसी की बुलाहट होती थी और वह वापस आकर कारखाने के फ़ोरमैन की तरह हमें आदेश देता था, “नम्बर तीन, उधर जाओ। साहब याद कर रहे हैं।” एक बार बत्रा ने उससे कह दिया कि वह साहब के लिए चपरासी का काम क्यों करता है, तो वह सप्ताह-भर बत्रा से अपने प्रूफ़ दिखाता रहा था।”

स्वतंत्रता प्राप्ति के समय हुए देश के विभाजन के ऊपर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में बहुत सी मार्मिक कहानियाँ लिखी गयी हैं। इनका हिंदी में अनूदित संचयन भी हिंदी-समय पर उपलब्ध है। इन कहानियों को पढ़कर हम सहसा उस दौर में पहुँच जाते हैं जिसने आज की अनेक राष्ट्रीय समस्याओं को जन्म दिया है। किसी भी साहित्य प्रेमी या समाज के अध्येता के लिए इन ८६ कहानियों से दो-चार होना उपयोगी ही नहीं अपितु अनिवार्य हैं।

अज्ञेय जी का एक लेख ‘सन्नाटा’ नाम से इंटर के कोर्स में पढ़ रखा था। ‘शेखर एक जीवनी’ और ‘नदी के द्वीप’ जैसे उपन्यास यूनिवर्सिटी के समय में पढ़ रखे थे लेकिन अभी जब उनके विशाल रचना संसार से परिचित हुआ और विविध विधाओं में उनके लेखन को अपलोड करते हुए दुरूह विषयों पर उनकी गहरी समझ और सटीक भाषा से प्रभावित हुआ तो लगा कि सब काम छोड़कर उन्हें ही समग्रता से पढ़ लिया जाय तो जीवन सफल हो जाय। मेरी बात मानने के लिए उनका संक्षिप्त जीवन वृत्त ही पढ़ लेना पर्याप्त होगा। दो-चार दिनों के भीतर सम्पूर्ण सामग्री हिंदी-समय पर होगी।

और हाँ,  अमीर खुसरों की मुकरियाँ पढ़कर और सुनाकर जो मुस्कान फैलती है उसका लोभसंवरण किया ही नहीं जा सकता। अब कहाँ तक गिनाऊँ। बहुत बड़ा भंडार है जी…।

इन सब सामग्रियों के बीच डूबकर मुझे इस बात का ध्यान ही नहीं रहा कि सत्यार्थमित्र पर अंतिम पोस्ट डाले हुए तीन सप्ताह निकल चुके हैं और हिंदी ब्लॉग जगत में विचरण का मेरा प्रिय कार्य प्रायः बंद हो चला है। मेरी तंद्रा आज तब टूटी जब घर में ही डाँट-सी सुननी पड़ी।

“आप को क्या हो गया है जी…? देख रही हूँ कि आपने आजकल पोस्ट लिखना बंद ही कर दिया है। जिस ब्लॉगरी के कारण आप सबकुछ छोड़कर यहाँ आये वही भूल गये हैं। यह दिनभर दूसरों के पुराने लिखे में आँख फोड़ने से कोई मेडल नहीं मिलने वाला है। आपकी पहचान हिंदी ब्लॉगजगत से है। उसे छोड़कर आप ‘फ्रंटपेज’ खोले बैठे हैं। कौन जानता है कि आप यह सब कर रहे हैं? कोई क्रेडिट नहीं मिलने वाली।… यही चलता रहा तो …न घर के रहेंगे न घाट के”

मैंने यह समझाने की कोशिश की मैं इस घिसे-पिटे मुहावरे का ‘पात्र’ नहीं हूँ। अब तो कोई धोबी भी इसे नहीं पालता। बल्कि विद्यार्थी जीवन में पहले जो कुछ नहीं पढ़ पाया था उसे पढ़ रहा हूँ और दूसरों को पढ़वाने का उपक्रम भी कर रहा हूँ। इसी काम के लिए मुझे तनख्वाह मिलती है। वैसे भी नेट पर अपना लिखा कूड़ा पढ़वाने से बेहतर है कि दूसरे उत्कृष्ट जनों का लिखा श्रेष्ठ साहित्य नेट पर उपलब्ध कराऊँ।

“तो आपको यह नौकरी करने से कौन मना कर रहा है। इस ‘पुनीत कार्य’ को अपने ऑफिस तक ही रखिए। छुट्टी के दिन घर पर भी वही जोतते रहेंगे तो कुछ दिन में पागल हो जाएंगे। …और आपके दिमाग में जो कूड़ा ही भरा है तो उसे बाहर निकाल देना ही श्रेयस्कर है। उसी ने आपको यहाँ ला पटका है। आप अपनी पहचान खो देने के रास्ते पर क्यों बढ़ रहे हैं।”

मैने सोचा पूछ लूँ कि अपने ब्लॉग पर क्यों कई महीने बाद कल एक पोस्ट डाल पायी हो लेकिन चुप लगा गया। कारण यह था कि उनकी बातें कहीं न कहीं मुझे अंदर से सही लग रही थीं। अपनी आशंका दूर करने के लिए मैंने कुछ ब्लॉगर मित्रों से बात की तो सबने यही कहा कि कुछ न कुछ लिखते रहना तो अनिवार्य ही है। इसी से मन को शांति मिल सकती है।

अब मेरी दुविधा कुछ मिट चली है। अब काम का बँटवारा करूंगा। घर पर ब्लॉगरी और ऑफिस में हिंदी-समय पर अपलोडिंग। काम के घंटे निर्धारित करने होंगे। हिंदी साहित्य का क्षेत्र इतना विस्तृत तो है ही कि इसे कुछ दिनों के ताबड़तोड़ प्रयास से पार नहीं किया जा सकता। स्थिर गति से लम्बे समय तक लगना होगा इसलिए इस काम में रोचकता बनाये रखना जरूरी है। सिर पर लगातार लादे रखने से कहीं यह बोझ न बन जाय। अब होगा पढ़ना-पढ़वाना और लिखना साथ-साथ।

लीजिए इस राम कहानी में एक पोस्ट निकल आयी। अब ठेल ही देता हूँ…!!!

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

प्रयाग का पाठ वर्धा में काम आया… शुक्रिया।

42 टिप्पणियाँ

 

वर्धा में जो कुछ हुआ वह आप ब्लॉगजगत की रिपोर्टों से जान चुके हैं। मैं भी अपने ब्लॉगर अतिथियों को विदा करने के बाद लगातार उनकी पोस्टें ही पढ़ रहा हूँ। उनकी स्नेहिल भाव-धारा में डूब-उतरा रहा हूँ। कृतज्ञता ज्ञापन के लिए शब्दों की मेरी झोली रिक्त हो चुकी है। मेरे लिए जैसी सद्‍भावनापूर्ण टिप्पणियाँ और उत्साहवर्द्धक बातें लिखीं गयी हैं उसके बाद तो मन में नयी ऊर्जा का संचार हो गया है। लगता है कि मौका मिले तो बार-बार उन अविस्मरणीय क्षणों को जीवन में उतारना चाहूँगा।

बीच-बीच में एक-दो महानुभावों की टिप्पणियाँ देखकर मन विचलित होता है तो पिछले साल के इलाहाबाद महासम्मेलन की याद ताजा कर अपना आत्मविश्वास मजबूत कर लेता हूँ।

पहला सम्मेलन विश्वविद्यालय के वर्धा मुख्यालय से दूर इलाहाबाद में था, यहाँ जैसा संसाधन व ‘लॉजिस्टिक सपोर्ट’ वहाँ उपलब्ध न था, अनुभव की कमी थी और ब्लॉग जगत का स्वभाव प्रायः अपरिचित था। लेकिन वहाँ भी जमावड़ा अच्छा हुआ था। खूब सार्थक बहस हुई। गरमा-गरमी भी हुई। एक जीवंत गोष्ठी का सफलता पूर्वक समापन कराकर जब हम घर लौटे तो अंतर्जाल पर हमारे प्रयत्नों को तार-तार करती कुछ पोस्टें हमारा स्वागत (काले झंडे से) करती मिलीं। हमने धैर्य से सबकुछ पढ़ा। …इसे बुलाया, उसे छोड़ दिया, इन्हें ये मिला, उन्हें वो नहीं मिला, यहाँ ये कमी वहाँ वो कमी। पब्लिक का पैसा बहा दिया गया,  …पारदर्शिता नहीं बरती गयी, आदि-आदि।

इन सब के बीच मेरा सौभाग्य यह रहा कि उस समय भी नकारात्मक आलोचनाओं से अधिक मात्रा में सम्मेलन की सकारात्मक बातों ने अन्तर्जाल पर स्थान बनाया। दुनिया को सही तस्वीर का पता चल गया। अंततः मेरा विश्वास पक्का हो गया कि हिंदी ब्लॉगिंग को प्रत्येक पढ़े-लिखे व्यक्ति से जोड़ने और इस अनूठे माध्यम की स्वतंत्रता और सहजता से सबको परिचित कराने के लिए इस आभासी दुनिया के स्थापित हस्ताक्षरों को सेमिनारों, गोष्ठियों व सम्मेलनों के माध्यम से एक दूसरे से व अन्य विद्यार्थियों और बुद्धिजीवियों से मिलने-मिलाने का सिलसिला चलते रहना चाहिए।

मैंने वर्धा में संपन्न इस कार्यक्रम की तैयारी के समय आदरणीय अरविंद जी द्वारा वर्ष पर्यन्त दी गयी सलाह के आधार पर कुछ मोटी-मोटी बातें नोट करके रख ली थीं लेकिन ऐन वक्त पर वह नोट ही गायब हो गया। अब जैसा कि सभी लोग कार्यक्रम को सफल बता रहे हैं तो स्मृति के आधार पर उन बातों को लिखने की कोशिश करता हूँ –

  1. आमंत्रितों की सूची अपने निजी संपर्क के आधार पर नहीं बल्कि ऐसी रीति से तैयार की जाय जिसमें इस माध्यम से गंभीरता पूर्वक जुड़ने वाले प्रत्येक ब्लॉगर को अपनी पहल पर यहाँ आने का मौका मिल सके।
  2. बजट की सीमा के अनुसार अतिथियों की जो भी सीमा तय हो उसको पूरा करने के लिए ‘प्रथम आगत-प्रथम स्वागत’ का नियम अपनाया जाय।
  3. आमंत्रित अतिथियों के लिए समान शिष्टाचार व उपलब्धता के आलोक में यथासम्भव समान संसाधन व सुविधाएँ उपलब्ध कराये जाय।
  4. सभाकक्ष में समय-प्रबंधन के उद्देश्य से बोलने वालों की संख्या नियंत्रित करने के लिए समूह-चर्चा की विधि अपनायी जाय जिसमें अलग-अलग मुद्दों पर चर्चा करने के लिए छोटे-छोटे समूह बनाकर गहनता से अलग-अलग चर्चा करा ली जाय और समूह के निष्कर्षों को उनके द्वारा नामित प्रतिनिधि द्वारा सभाकक्ष में प्रस्तुत किया जाय।
  5. अतिथियों के आवागमन, सुबह की चाय, नाश्ता, भोजन व शयन को निर्बाध बनाने के लिए अलग-अलग कर्मचारियों की लिखित ड्यूटी लगाकर उनका अनुश्रवण किया जाय।
  6. सभाकक्ष में परिचय-पत्र, कलम-कागज, कम्प्यूटर, इंटरनेट, माइक, ऑडियो-वीडियो रिकॉर्डिंग, फोटोग्राफी, प्रेस-रिपोर्ट इत्यादि की जिम्मेदारी दूसरे कुशल विशेषज्ञों के हाथ में दे दिया जाय।
  7. प्रत्येक सत्र में संपन्न कराये जाने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा पहले ही तय कर ली जाय और उसका समयबद्ध अनुपालन प्रत्येक दशा में किया जाय।
  8. किसी भी ब्लॉगर को अपने मन से बक-बक करने की इजाजत न दी जाय। विषय से इतर न कुछ कहने दिया जाय और न ही कुछ करने दिया जाय। इधर-उधर घूमने और टंकी इत्यादि खोजने का मौका तो कतई नहीं।:)

इस प्रकार सारे काम दूसरों के सुपुर्द कर मैने अपना कैमरा उठाया और एक विचित्र संयोजक बनकर अनूप जी को एक बार फिर शिकायत का मौका देता हुआ गेस्ट हाउस पहुँच गया। शिकायत यह कि मैं एक संयोजक की तरह परेशान हाल, सिर खुजाता हुआ और बेचैनी से टहलता हुआ क्यों नहीं दिखायी दे रहा था।

जब पंचों की यही राय है कि संगोष्ठी सफल रही तो मैं यह क्यों बताऊँ कि ऊपर गिनाये गये किसी भी बिन्दु का अनुपालन ठीक-ठीक नहीं हो पाया? साथ ही कुछ दूसरी कमियाँ भी अपना मुँह लटकाये इधर-उधर ताकती रहीं तो उन्हें चर्चा का विषय मैं क्यों बनाऊँ? …लेकिन एक भारी समस्या है। यह बात लिखकर मैं आफ़त मोल ले रहा हूँ। शुचिता और पारदर्शिता के रखवाले मुझे जीने नहीं देंगे। यदि कमियाँ थीं तो उन्हें सामने आना चाहिए। अनूप जी ने यह कई बार कहा कि सिद्धार्थ अपना नमक खिला-खिलाकर लोगों को सेट कर रहा है। तो क्या मानूँ कि नमक अपना असर कर रहा है? छी-छी मैं भी कैसा अहमक  हूँ… अनूप जी की बात पर जा रहा हूँ जो खुले आम यह कहते हुए पाये गये कि आओ एक दूसरे की झूठी तारीफ़ें करें…।

तो मित्रों, मैं पूरे होशो-हवाश में पारदर्शिता के तकाजे से यह बताना चाहता हूँ कि ऊपर तय की गयी पॉलिसी शुरुआत से ही फेल होती रही, और मैं अपने को जबरिया पास करता रहा। उद्‍घाटन सत्र में ही अनूप जी ने स्पष्ट भी कर दिया कि सिद्धार्थ के ‘साहस’ की दाद देनी पड़ेगी कि इलाहाबाद सम्मेलन पर इतनी गालियाँ खाने के बाद भी साल भर के भीतर ही फिर से सबको दुबारा बुला लिया। इस कथन को भी मैने सकारात्मक मान लिया है जबकि आप इसका अर्थ समझ ही रहे होंगे। बहरहाल ऊपर गिनाये गये नियमों पर बिंदुवार आख्या निम्नवत है:

  1. मैने अपने ब्लॉग सत्यार्थमित्र व विश्वविद्यालय की दोनो साइट्स पर यह सूचना पोस्ट कर दी कि अमुक तिथियों को संगोष्ठी होगी। उसमें जो भी सज्जन शामिल होना चाहें वे ‘ब्लॉगिंग इथिक्स’ की थीम पर एक आलेख लिखकर उसे अपनी प्रविष्टि के रूप में हमें भेजें। चयनित होने पर उन्हें प्रतिभाग हेतु आमंत्रण पत्र भेजा जाएगा। कार्यशाला में प्रशिक्षण प्राप्त करने के इच्छुक अभ्यर्थियों से  निर्धारित प्रारूप पर आवेदन/पंजीकरण प्रपत्र भरने का अनुरोध किया गया था। सुरेश चिपलूनकर जी के एक टिप्पणी रूपी प्रश्न के जवाब में ‘प्रतिभागी’ और ‘अभ्यर्थी’ का अंतर भी बताया गया। इस सूचना के आधार पर जिस किसी ने अपनी प्रविष्टि भेजी उसको आमंत्रण पत्र भेज दिए गये। कोई आलेख अस्वीकृत नहीं हुआ। लेकिन हमारी उम्मीद के उलट यह संख्या बहुत कम थी। इस खुले आमंत्रण से संख्या पूरी न होते देखकर हमें सामूहिक चर्चा से कुछ नाम तय करने पड़े। करीब पचास बड़े और अनुभवी ब्लॉगर्स से संपर्क किया गया। इनमें से अनेक अपनी निजी व्यस्तता के कारण असमर्थता व्यक्त करते गये। अंततः करीब पैतीस लोगों ने आने की सहमति जतायी। अंतिम क्षण तक आकस्मिक कारणों से लोगों की यात्राएँ रद्द होती रहीं। प्रमुख कारणों में स्वयं अथवा किसी परिजन की तबियत खराब होना, अथवा नौकरी से छुट्टी न मिल पाना रहा। इस प्रकार हमने अवसर सबको दिया लेकिन उसे लपक लेने का ख्याल कम ही लोगों के मन में आया। जो आ गये उन्हें ही पाकर हम धन्य हो गये। जिन्होंने न बुलाने का स्पष्टीकरण मांगा उन्होंने अपनी भाषा और शैली से जतला भी दिया कि उन्हें न बुलाकार इस कार्यक्रम का कोई नुकसान नहीं हुआ।
  2. अंतिम समय तक लोगों के नाम कटते रहे इसलिए दूसरे नियम के पालन की आवश्यकता ही नहीं पड़ी। जिसने भी चाहा उसे आने दिया गया। हम सभी आने वालों से उनके आलेख अंतिम समय तक माँगते रहे। जिन्हें नहीं देना था उन्होंने नहीं ही दिया। कुछ लोगों का ‘न आना’ तय था लेकिन उन्होंने आलेख पाबंदी से भेज दिया। इसमें इस बात की पुष्टि हुई कि ब्लॉगर अपने मन का राजा है। जब मूड होगा तभी लिखेगा। किसी के कहने से नहीं।
  3. संसाधनों-सुविधाओं की समानता के बजाय उनकी उपलब्धता ने तीसरे नियम को ज्यादा प्रभावित किया। ए.सी.-नॉन-ए.सी., उत्तर-दक्षिण, ऊपर-नीचे, सिंगल-डबल इत्यादि मानकों के कमरों की उपलब्धता सीमित थी इसलिए जिसे जैसा बन पड़ा उसे वैसा टिका दिया गया। लेकिन सौभाग्य से इस बार कोई ब्लॉगर ऐसा नहीं निकला जो इन बातों की तुलना करके अपना दिन खराब करे। सबने हमारी वाह-वाह की और हम सच्ची में खुश होते रहे।
  4. समूहों का गठन भी हुआ, चर्चा भी हुई और प्रतिनिधियों का प्रस्तुतिकरण भी हुआ। लेकिन इस चक्कर में कई अच्छे वक्ता बोलने से रह गये। तकनीकी रूप से उनके विचार उनके समूह प्रतिनिधि ने व्यक्त कर दिए, लेकिन कलकत्ता से आये प्रियंकर जी, मुम्बई से आयी अनीता जी, रायपुर से आये संजीत जी अपने समूह के बाहर बोलने का मौका ही नहीं पा सके। इनको सुनना निश्चित रूप से बहुत लाभकारी होता, लेकिन समय-प्रबंधन की नयी तकनीक के आगे यह नुकसान हो गया।
  5. पाँचवें नियम के आलोक में ड्य़ूटी तो लगा दी गयी लेकिन कर्मचारियों ने यदि कोई ढिलाई बरती होगी तो उसका पता नहीं चल पाया। हमारे अतिथि इतने अच्छे थे कि उन्होंने मुझे खुश देखने के लिए किसी कमी की ओर इशारा ही नहीं किया। खुद आगे बढ़कर चाय माँगकर पीते रहे और लाइव रिपोर्ट में हमारा नाम रौशन करते रहे। एक बाथरूम में पानी ही नहीं आ रहा था। अविनाश जी गमछा कन्धे पर डालकर दूसरे ब्लॉगर के बाथरूम में हो लिए। किसी कर्मचारी ने एक दिन पहले टंकी का ओवरफ़्लो रोकने के उद्देश्य से गेटवाल की चकरी बंद करने के बाद उसे दुबारा खोलना जरूरी नहीं समझा था। पहले दिन रात के दस बजे ‘आल-आउट’ का जुगाड़ हो सका लेकिन सुनते हैं कि मच्छरों ने पहले ही अपना प्लान पोस्टपोन कर दिया था।
  6. सभाकक्ष में लॉजिस्टिक सपोर्ट निश्चित ही अच्छा रहा होगा लेकिन इसका प्रमुख कारण यह है कि उसमें मेरा कोई हाथ नहीं था। विश्वविद्यालय के कर्मचारियों, पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों व तकनीकी विशेषज्ञों ने कोई कसर नहीं रखी। जिससे काम बिगड़ने का डर था वह अपने निजी कैमरे से ब्लॉगर्स की फोटो खींचने में व्यस्त था। बाद में पता चला कि कैमरे की सेटिंग ऐसी हो रखी थी कि सभी तस्वीरें सबसे कम (AVG) क्वालिटी की ही आ सकीं। केवल नेट पर चढ़ाने लायक।:(
  7. कार्यक्रम की रूपरेखा ऐसी तय हुई कि पहले सत्र को छोड़कर बाकी सत्रों में मंच पर कुर्सियाँ खाली ही रह गयीं। प्रत्येक सत्र के लिए औपचारिक अध्यक्ष और वार्ताकार तय कर मंच पर नहीं बैठाये गये। ब्लॉगर्स मंच के सामने लगी दर्शक-दीर्घा की कुर्सियों पर ही आसीन रहे और पवन दुग्गल को छोड़कर शेष वक्ता नीचे से सीधे पोडियम पर आते रहे। बाद में श्रीमती रचना त्रिपाठी ने बताया कि मंच खाली-खाली लग रहा था। लेकिन कार्यक्रम के दौरान किसी ने इस ओर इशारा नहीं किया। वहाँ उपस्थित कुलपति जी ने भी नहीं। बाद में उन्होंने बताया कि आप संचालक कम और हेडमास्टर ज्यादा लग रहे थे। ईल्ल्यौ… 😦
  8. यदि यशवंत जी की भड़ास का अपवाद जबरिया निकाल दें तो विषय से हटकर बिना इजाजत बोलने वालों को मौका न देने का नतीजा यह हुआ कि चर्चा घूम-फिरकर इसी मुद्दे पर केंद्रित रही कि ब्लॉग लिखने वाले किसी आचार-संहिता के बारे में न सोचें तो ही ठीक है। किसी ने सामान्य सामाजिक नियमों को पर्याप्त बताया तो किसी ने स्व- नियंत्रण की बात की, कोई संहिता को गोली मारने के लिए ललकार रहा था तो कोई साइबर कानून की सीमाएँ बता रहा था। कुलपति जी ने भी अपनी लक्ष्मण रेखा खुद खींचने की ही सलाह दी। कुछ लोगों ने ब्लॉगर के उचित आचरण गिनाये तो किसी ने इसे उद्यमिता के परिप्रेक्ष्य में जोड़ते हुए यह कहा कि जो जिम्मेदार नहीं बनेगा वह यहाँ ज्यादा दिन नहीं टिकेगा। लफ़्फ़ाजी और घटिया प्रपंच की मार्केटिंग बहुत दिनों तक नहीं चलने वाली है। ब्लॉगरों को थोड़ा घूमने का मौका क्या दिया वे बस लेकर गांधी जी के आश्रम के बाद विनोबा जी के द्वार तक चले गये। वहाँ पवनार नदी की उजली धारा देखकर उसमें कुछ लोग कूदने को उतारू थे। लेकिन जिस विधाता ने गोष्ठी की सफलता  का वरदान दे रखा था उसी ने उन लोगों को कूदने से रोक लिया और सभी सकुशल ठीक समय से सभाकक्ष तक लौट आये। 

कहीं यह निष्कर्ष निकाला गया है कि “और जो कुछ भी हुआ हो मगर प्रवर्तित विषय ही भलीभांति विवेचित नहीं हो सका सारी रिपोर्टें यही बताती हैं ……बस छिछला सा निर्वाह …..बस जुमले दागे गए …..” हजार किलोमीटर दूर पंचायत चुनाव कराते हुए भी इतना गहरा अध्ययन करके तुरत-फुरत निष्कर्ष प्रस्तुत करने की क्षमता वाला कोई दूसरा ब्लॉगर यहाँ था ही नहीं जो गहराई तक निर्वाह कर सके और जुमलों से बाहर निकल सके। पवन दुग्गल भी वह गहराई नहीं पा सके। हैरत है कि फिर भी चारो ओर जय-जयकार मची है इस संगोष्ठी की। मन चकरा रहा है।

मुझे तो लग रहा था कि निम्न चार विषयों पर उनके समूहों द्वारा जो चर्चा की गयी वह गहन भी थी और सार्थक भी लेकिन कदाचित्‌ इसका संदेश सभाकक्ष के बाहर अंतर्जाल पर पूरा नहीं गया।

१- ब्लॉगिंग में नैतिकता व सभ्याचरण (etiquettes)

श्री सुरेश चिपलूनकर, श्री विवेक सिंह, श्री संजीत त्रिपाठी, डॉ.महेश सिन्हा, डॉ. (श्रीमती) अजित गुप्ता,

२- हिंदी ब्लॉग और उद्यमिता (व्यावसायिकता)

श्री हर्षवर्धन त्रिपाठी, श्री शैलेश भारतवासी, श्री संजय वेंगाणी, श्री अविनाश वाचस्पति, श्री अशोक कुमार मिश्र, श्रीमती रचना त्रिपाठी, श्री सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी, श्री विनोद शुक्ल

३-आचार संहिता क्यों व किसके लिए?

श्री रवीन्द्र प्रभात, श्रीमती अनिता कुमार, श्री प्रवीण पांडेय, प्रो. ऋषभदेव शर्मा, डॉ कविता वाचक्नवी, डॉ. प्रियंकर पालीवाल

४- हिंदी ब्लॉग और सामाजिक सरोकार

-श्री जय कुमार झा, श्री यशवंत सिंह, श्री अनूप शुक्ल, श्री जाकिर अली रजनीश, सुश्री गायत्री शर्मा

अब समूह के प्रतिनिधि अपनी लाज रखने के लिए पूरी बात अपने ब्लॉग पर लिखकर सबको लिंक भेजें तब शायद बात बने। 

उपर्युक्त विवेचन से यह स्पष्ट है कि मेरी लाख न्यूनताओं के बावजूद ईश्वर ने मुझसे एक जानदार, शानदार और अविस्मरणीय कार्यक्रम करा दिया तो यह निश्चित रूप से मेरे पूर्व जन्म के सद‌कर्मों का पल रहा होगा जिससे मुझे इस बार अत्यंत सुलझे हुए और सकारात्मक दृ्ष्टि के सम्मानित ब्लॉगर्स के साथ संगोष्ठी के आयोजन का सुअवसर मिला। कुलपति श्री विभूति नारायण राय जी ने बड़ी सहजता से पूरे कार्यक्रम के दौरान मेरी गलतियों को नजर अंदाज कर मेरा हौसला बढ़ाये रखा, पूरा विश्वविद्यालय परिवार मुझे हर प्रकार से सहयोग करता रहा, और ब्लॉगजगत में मेरे शुभेच्छुओं की दुआओं ने ऐसा रंग दिखाया कि कुछ खल शक्तियाँ अपने आप किनारे हो गयीं वर्ना बुलावा तो सबके लिए था। इसे भाग्य न मानूँ तो क्या?

एक बात जरूर कहूँगा कि प्रयाग के सम्मेलन से जो सीखा था वह वर्धा में काम आया। यहाँ भी अपनी गलतियों से कुछ सीखने को मिला है। निश्चित ही वे आगे मार्गदर्शन करेंगी।

शेष बातें जानने के लिए इन लिंक्स पर जाना उपयोगी होगा-

  1. कई अनुत्तरित प्रश्नों को छोड़ गयी वर्धा में आयोजित संगोष्ठी (रवीन्द्र प्रभात)
  2. कैमरे में कैद वर्धा में आयोजित संगोष्ठी की सच्चाई (रवीन्द्र प्रभात)
  3. अविस्मरणीय रहा वर्धा में आयोजित संगोष्ठी का दूसरा दिन (रवीन्द्र प्रभात)
  4. वर्धा में केवल विचार मंथन ही नहीं मस्ती की पाठशाला भी (रवीन्द्र प्रभात)
  5. हिन्दी ब्लॉगिंग पर आधारित दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला और संगोष्ठी पूरी भव्यता के साथ संपन्न (रवीन्द्र प्रभात)
  6. वर्धा सम्मेलन: कुछ खट्टा कुछ मीठा (जाकिर अली रजनीश)
  7. वर्धा यात्रा ने बना दिया गाय, वर्ना आदमी तो हम भी थे काम के.(अनीता कुमार)
  8. बर्धा ब्लॉगर सम्मेलन की रिपोर्ट “जरा हटके” (सुरेश चिपलूनकर)
  9. स्वतंत्र वार्ता हैदराबाद: ब्लॉगरों को अपनी लक्ष्मण रेखा खुद बनानी पड़ेगी- विभूति नारायण राय
  10. वी.एन.राय, ब्लॉगिंग और मेरी वर्धा यात्रा (भड़ास पर यशवंत)
  11. वर्धा की शानदार तस्वीरें (पिकासा पर सुरेश चिपलूनकर)
  12. वर्धा में दो दिवसीय राष्‍ट्रीय कार्यशाला एवं संगोष्‍ठी संपन्न (डॉ.कविता वाचक्नवी)
  13. वर्धा ब्लॉगर मिलन से वापसी, बाल बाल बचे (डॉ. महेश सिन्हा)
  14. ब्लोगिंग के जरिये गणतंत्र को आगे बढाने का एक अभूतपूर्व आयोजन का सार्थक प्रयास..(जय कुमार झा)
  15. ब्लोगर संगोष्ठी वर्धा चित्रों क़ी नजर से ..(जय कुमार झा)
  16. वर्धा संगोष्ठी और कुछ अभूतपूर्व अनुभव व मुलाकातें ….(जय कुमार झा)
  17. ब्लोगिंग का उपयोग सामाजिक सरोकार तथा मानवीय मूल्यों को सार्थकता क़ी ओर ले जाने केलिए किये जाने क़ी संभावनाएं बढ़ गयी है …..(जय कुमार झा)
  18. वर्धा में मिले ब्लॉगर (विवेक सिंह)
  19. वर्धा के गलियारों से (कुछ झूठ कुछ सच ) (विवेक सिंह)
  20. "ब्‍लोगिंग की कार्यशाला – अभी छाछ को बिलौना बाकी है – डॉ. (श्रीमती)अजित गुप्‍ता
  21. वर्धा सम्‍मेलन की तीन अविस्‍मरणीय बातें (संजय बेंगाणी)
  22. साला न कहें भाई साहब कहें चर्चाकारः अनूप शुक्ल
  23. ब्लॉगिंग सबसे कम पाखंड वाली विधा है चर्चाकारः अनूप शुक्ल
  24. ब्लॉगिंग की आचार संहिता की बात खामख्याली है चर्चाकारः अनूप शुक्ल
  25. वर्धा में भाषण जारी चर्चाकारः अनूप शुक्ल
  26. वर्धा में ब्लागर सम्मेलन चर्चाकारः अनूप शुक्ल
  27. नदी उदास नहीं थी  (डॉ. कविता वाचक्नवी)
  28. गांधी जी सफलतम ब्लॉगर हुए होते : वर्धा आयोजन का भरत वाक्य  (डॉ.ऋषभदेव शर्मा)
  29. "वर्धति सर्वम् स वर्धा – 1 (प्रवीण पांडेय)
  30. वर्धा ब्लोगर संगोष्ठी के पर्दे के पीछे के असल हीरो … (जय कुमार झा)
  31. वर्धा संगोष्ठी में उपस्थित थे गांधी, निराला, शमशेर और अज्ञेय भी … (रवीन्द्र प्रभात)
  32. हिंदी ब्लॉगिंग-आचार संहिता-देश के ब्लॉगर और कुछ बातें, एक रपट जैसा कुछ (संजीत त्रिपाठी)
  33. महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय,वर्धा से लौटकर …. हिन्‍दी ब्‍लॉगरों की एक महारैली का आयोजन देश की राजधानी दिल्‍ली के इंडिया गेट पर करें (अविनाश वाचस्पति)
  34. ब्‍लागिंग में आना और कार्यशाला में पहचाना एक-दूसरे को डॉ.(श्रीमती) अजित गुप्ता
  35. तनिक रुको भाई, आ रहे हैं बताते हैं बताते हैं (अनीता कुमार)
  36. महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय में… (गायत्री शर्मा)
  37. वर्धा और बिरयानी घर (राम त्यागी)
  38. वर्धा से आप लोग क्यों चले गये… ? (मास्टर सत्यार्थ)
  39. …अथ वर्धा ब्लॉगर सम्मेलन कथा (अनूप शुक्ल)
  40. वर्धा – कंचन मृग जैसा वाई-फ़ाई (अनूप शुक्ल)

अभी इतना ही। कुछ लिंक्स छूट गये हों तो टिप्पणियों के माध्यम से या मेल से बताएँ। (हम कोशिश करेंगे कि इस सूची को समय-समय पर आगे बढ़ाते रहें)

    (सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी) 

अयोध्या को विराम दे कुछ और सोचा जाय…?

18 टिप्पणियाँ

 

बुधवार की शाम को जब सारा देश साँस रोके वृहस्पतिवार को आने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की प्रतीक्षा कर रहा था और चारो ओर आशंका और संशय का वातावरण किसी संभावित विस्फोट  के लिए अपने आपको तैयार कर रहा था उसी समय महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा में एक नयी सांस्कृतिक सुगबुगाहट अपना पहला कदम रख रही थी। यहाँ के फिल्म एवं नाट्यकला विभाग द्वारा अब अपने पाठ्यक्रम के अंग के रूप में वास्तविक रगमंचीय प्रस्तुतियों की शृंखला प्रारंभ करने की योजना बनायी गयी है। इसी को कार्यरूप देते हुए यहाँ के एम.ए.(प्रथम छमाही) के विद्यार्थियों ने कामतानाथ की कहानी ‘हल होना एक समस्या का’ के नाट्य रूपांतर ‘दाख़िला’ का मंचन किया। इस नाटक को देखते हुए हम आनंद रस में डूबे रहे और देश की सबसे ज्वलंत समस्या(?) से अपने को कई घंटे तक दूर रख सके।

आज यदि आप कोर्ट के अयोध्या फैसले की खबरों और इसके मीडिया पोस्टमॉर्टेम से उकताकर कोई नया ठौर तलाश रहे हों तो मैं आपको एक हल्की-फुल्की कहानी के शानदार  मंचन की बात बताना और दिखाना चाहता हूँ।

फिल्म व नाट्यकला विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर और रंगकर्मी अखिलेश दीक्षित द्वारा किए गये इस कहानी के नाट्य रूपांतर एवं निर्देशन में यहाँ के एम.ए. नाट्यकला के नवागत छात्रों ने सीमित संसाधनों के बीच जिस लगन और परिश्रम से यह शानदार प्रस्तुति उपस्थित छात्रों, शिक्षक समुदाय व अन्य आमंत्रित दर्शकों के समक्ष दी वह तारीफ़ के का़बिल थी। खचाखच भरे हाल में जब और लोगों के घुसने की जगह नहीं बची तो विभागाध्यक्ष प्रो. रवि चतुर्वेदी को उसी शाम दूसरा शो कराने की घोषणा करनी पड़ी। नाटक के फर्स्ट शो के तत्काल बाद रिपीट शो भी करना पड़ा। आइए पहले आपको संक्षेप में कहानी बता देते हैं-

डब्बू के पिता एक निम्न मध्यमवर्गीय परिवार के मुखिया हैं जिसमें उनकी पत्नी और उनका बेटा है। वो अपने तीन वर्ष के बेटे डब्बू का एड्मिशन शहर के सबसे बड़े व प्रतिष्ठित कॉन्वेंट स्कूल में कराना चाहते हैं। एड्मिशन फॉर्म हासिल करने से लेकर इंटरव्यू तक तमाम गंभीर प्रयास करने के बावजूद उनके बेटे का प्रवेश उस स्कूल तो क्या किसी दूसरे कम प्रतिष्ठित तथाकथित अंग्रेजी स्कूल में भी नहीं होता। दोस्तों की सलाह पर वे अपने एक दूर के रिश्तेदार जो डी.एम. के स्टेनो हैं, के माध्यम से डी.एम. का सिफ़ारिशी पत्र लेकर स्कूल के फ़ादर/प्रिंसिपल से मिलते हैं जो उन्हें उल्टे पाँव लौटा देता है। कई मुलाकातों के बाद और इसके चक्कर में फ़ादर के कुत्ते से गर्दन पर कटवा लेने के बाद डब्बू के पिता से प्रिंसिपल द्वारा डोनेशन की मांग की जाती है। डोनेशन के लिए अपनी सारी जमा पूँजी और बीबी के जेवर से पैसे जुटाकर सौंप देने के बाद भी फादर की डिमांड पूरी नहीं हो पाती और वह निराश होकर बजरंग बली को कोसता हुआ घर लौट रहा होता है।

रास्ते में उसे अपना लंगोटिया यार फुन्नन मिल जाता है जो जरायम पेशा अपनाने के बाद माफ़ियागिरी करते हुए फुन्ननगुरू बन चुका है। शरीफ़ दोस्त की समस्या सुनकर वह मदद करता है और अपने रसूख के दम पर मिनटों में बिना फीस भरे डब्बू का एड्‍मिशन उसी स्कूल में करा देता है। 

कामतानाथ की यह कहानी दिखाती है कि अंग्रेजी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने की अंधी दौड़ ने एक तरफ़ डोनेशन, कैपिटेशन फीस और ऐसे ही कई भ्रष्ट तरीकों का पोषण तो किया ही है वहीं एक ताकतवर शिक्षा माफ़िया का रास्ता भी बनाया है। निम्न मध्यमवर्ग के प्रायः सभी घरों की यह कमो-बेश वास्तविक कहानी है इसलिए यह दर्शकों से सहज तादात्म्य स्थापित कर लेती है। निर्देशक अखिलेश दीक्षित कहते हैं कि गली-गली में उग आये तथाकथित इंगलिश मीडियम (कॉन्वेंट) स्कूल आम भारतीयों की अंग्रेजी के प्रति गुलामी और अपनी भाषा के प्रति हीन भावना को कैश करते हैं। यह नाटक इसी विडम्बना को चित्रित करता है।

 

यह किसी सिनेमाघर की टिकट-खिड़की पर लगी लाइन नहीं है, बल्कि शहर के सबसे बड़े इंगलिश मीडियम स्कूल में एड्‍मिशन का फ़ॉर्म खरीदने वालों की लाइन है। सबसे पीछे खड़े हैं डब्बू के पापा जिन्हें फ़ॉर्म ब्लैक खरीदना पड़ा। 

डब्बू के पापा

डब्बू का एड्‌मिशन हो गया तो जिंदगी बदल जाएगी। हम भी ‘इंगलिश मीडियम स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे के माँ-बाप’ कहलाएंगे। सोसायटी में इज्जत बढ़ जाएगी।

हाय मेरी किस्मत

अंग्रेजी सीखो नहीं तो मुझे कोई और व्यवस्था करनी पड़ेगी। फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाली किराये की माँए भी मिलने लगी हैं।

रैपीडेक्स का रट्टा

रैपीडेक्स इंगलिश स्पीकिंग कोर्स का रट्टा चालू आहे। आई गो इंगलिस रीडिंग। यू स्लीप विदाउट ईटिंग…

सीट न मिली तो जमीन पर ही आसन

कुछ रीडर और प्रोफ़ेसर राकेश जी (ओ.एस.डी. संस्कृति) के साथ जमीन पर ही जगह पा सके। कवि आलोकधन्वा (छड़ी के साथ) ने भी नाटक देखा।

फादर के कुत्ते ने काट खाया

फ़ॉदर के कुत्ते का धन्यवाद जिसके काट काने से फ़ादर की सहानुभूति जागी। अपने हाथ से फ़र्स्ट-एड देने लगे तो बात चलाने का मौका मिला।

मंत्र मुग्ध दर्शक

फ़िल्म और नाट्यकला विभाग के अध्यक्ष प्रो रवि चतुर्वेदी को इतनी भीड़ की उम्मीद नहीं थी। हाल छोटा पड़ गया। जो लोग जगह नहीं पा सके उनके लिए दूसरा शो तत्काल बाद कराना पड़ा।

डोनेशन दोगे...

डोनेशन की चार सीटों में तीन भर गयी हैं। चौथी तुम्हें मिल सकती है लेकिन इसके लिए कुछ व्यवस्था…

इस नाटक में सूत्रधार की भूमिका निभाने वाले नीरज उपाध्याय ने अलग-अलग दृश्यों को जोड़ने और कहानी के सूत्र को बीच-बीच में जोड़ने के साथ-साथ कुत्ता, हनुमान, और पानवाला बनकर दर्शकों को हँसी से लोट-पोट कर दिया। डब्बू के पिता की भूमिका में रोहित कुमार ने जोरदार अभिनय क्षमता का परिचय दिया। खासकर संवाद अदायगी में  प्रत्येक पंचलाइन पर उन्होंने तालियाँ बटोरी। डब्बू के सामने हिंदी न बोलने कि मजबूरी में पूजा के समय इशारे से आरती का सामान न मांग पाने की मजबूरी का चित्रण गुदगुदाने वाला था। डब्बू की माँ बनी सुनीता थापा ने भी अपने सयाने अभिनय से एक निम्न मध्यमवर्गीय गृहिणी के चरित्र को सजीव कर दिया। शेष पात्रों में स्कूल के चपरासी की भूमिका में मनीष कुमार और ताऊ की भूमिका में रत्नेश मिश्रा भी सराहे गये।

मैंने यू-ट्यूब पर इस नाटक की कुछ झलकियाँ लगायी हैं जिन्हें आप निम्न लिंक्स चटकाकर देख सकते हैं।

१-पास में डब्बू था इसलिए हिंदी नहीं बोल पा रहा था

२-बीबी के जेवर दाखिले के लिए

३-फुन्नन गुरू का परिचय

४-गाँव से आए लालची ताऊ

प्रसंगवश:

वर्धा विश्वविद्यालय के इस शांत प्रांगण में रहकर देश के बड़े हिस्से में चल रही मंदिर-मस्जिद चर्चा और उससे दुष्प्रभावित दिनचर्या से अक्षुण्ण रहते हुए यहाँ दूसरे जरूरी मुद्दों पर सोचने का अवसर मन को सुकून देता है। अगले २-३ अक्टूबर को चार महान कवियों की जन्म शताब्दी का उत्सव कार्यक्रम यहाँ आयोजित है जिसमें देश के शीर्ष साहित्यकार जु्टकर सच्चिदानंद हीरानंद वात्साययन ‘अज्ञेय’, केदार नाथ अग्रवाल, शमशेर, बाबा नागार्जुन और फैज़ अहमद फैज़ की काव्य यात्रा पर गहन चर्चा करेंगे। उद्घाटन भाषण नामवर सिंह का होगा। बाद में वर्ष पर्यंत देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे कार्यक्रम कराये जाएंगे।

ब्लॉगरी की आचार संहिता विषयक विचारगोष्ठी व कार्यशाला भी बस अगले सप्ताहांत (९-१० अक्टूबर को) होगी। आमंत्रण पत्र भेजे जा चुके हैं। बड़ी संख्या में वरिष्ठ ब्लॉगर्स ने रेल आरक्षण कराकर सूचना भेज दी है। कुछेक अभी सो रहे हैं। आशा है जल्दी ही जागकर अपना प्रोग्राम बताएंगे। आप सबका स्नेह पाकर मेरा मन बहुत उत्साहित है। बस अब तैयारी पूरी करनी है।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

कार्यशाला उम्दा थी, गलती मेरी थी…

17 टिप्पणियाँ

 

मेरी पिछली पोस्ट में आपने साइंस ब्लॉगिंग कार्यशाला के लिए मेरी लखनऊ की यात्रा का हाल पढ़ा था। अनेक मित्रों ने पसंद किया और मुझे अपना स्नेह दिया। मैं भी बड़ा प्रसन्न था कि अपनी प्रसन्नता भरी यात्रा और सेमिनार के अनुभव बाँटकर शायद मैने अच्छा काम किया है। उत्साह में मैने कार्यशाला के दूसरे दिन साइंस ब्लॉगर एसोसिएशन नामक ब्लॉग पर लाइव कमेण्ट्री भी पोस्ट कर डाली। (इसका गैर-योगदानकर्ता सदस्य लम्बे समय से था।) जैसे-जैसे प्रशिक्षण कार्यक्रम आगे बढ़ता जाता पोस्ट में उसका हाल जुटता जाता। दूसरे दिन के प्रथम सत्र पर एक नहीं दो पोस्ट्स सत्र के दौरान ही तैयार हो गयीं और तत्क्षण पब्लिश भी हो गयीं। मुझे तो बड़ा मजा आया। आदरणीय गिरिजेश राव जी के मोबाइल कैमरे से खिंची तस्वीरें ब्लूटूथ पर सवार होकर मेरे लैपटॉप पर आतीं और लाइव राइटर द्वारा सीधे ब्लॉग-पोस्ट में जा समातीं। क्षणभर में ट्रेनिंग देते विशेषज्ञ और सीखते प्रशिक्षु नेटतरंगों पर सवार हो अन्तर्जाल की सैर पर निकल पड़ते।

कार्यशाला हम तो इस अनुभव को आपसे यहाँ बाँटने को उतावले थे कि कैसे देखते-देखते एक आर्ट्‌स  साइड(मानविकी)  के साधारण विद्यार्थी से हम एक वैज्ञानिक सेमिनार के विशेषज्ञ बन गये। धन्य है यह ब्लॉगरी जो एक राई को पहाड़ बनाने की क्षमता रखती है। इस प्रक्रिया का सच्चा उदाहरण बनने का अनुभव बाँटकर मैं बहुतों को अचम्भित करने की तैयारी में था। लेकिन यह हो न सका। पहला कारण तो बनी वर्धा में कुछ समय के लिए वीएसएनएल की ठप पड़ गयी इंटरनेट सेवा, जिससे लिखना विलम्बित हो गया। लेकिन दूसरा बड़ा कारण बना मेरे उस भ्रम का ही टूट जाना जो आदरणीय डॉ. अरविंद जी की निम्न महत्वपूर्ण टिप्पणी से सम्भव हुआ-

Arvind Mishra said…

वैज्ञानिक समागमों में सत्र का अध्यक्ष ही मंच का संचालन करता है -इस कार्यशिविर में एक अनजाने में हुयी कमी रह गयी कि आयोजकों में से किसी ने आहूत विशेषज्ञों के लिए आरम्भ में एक उद्बोधन नहीं रखा -संभवतः यह मानकर कि उन्हें वैज्ञानिक आयोजनों के प्रोटोकाल मालूम होंगें .-वैज्ञानिक सम्मलेन और पारम्परिक साहित्यिक सांस्कृतिक सम्मेलनों के प्रोटोकोल थोडा अलग होते हैं –
बाकी तो यह देवी का भड़रा नहीं था -न ही चलो बुलावा आया है जैसा कोई आयोजन -अनाहूत ब्लॉगर वहां न पहुच कर विवेक का काम तो किये ही अपनी अनुपस्थिति से आयोजन को सफल बनाए में योगदान भी किये -उनकी अनुपस्थिति इस लिहाज से उभरती गयी ….
बाकी आप लोगों के खान पान रहन सहन अवस्थान में आयोजकों ने शायद ही कोई कसर छोडी हो -समय पर बेड टी के साथ लंच और डिनर भी ….और रहने के ऐ सी कमरे -इन उज्जवल पक्षों को भी इस लम्बी रिपोर्ट में समेटते तो वृत्तांत का सही परिप्रेक्ष्य भी उभरता -किसी विशेषग्य के साथ कोई भेद भाव भी नहीं था -जैसे किसी को ऐ सी तो किसी को नान ऐ सी …आपने इन बातों को भी नोट किया होगा ..हाँ अन्य विशेषज्ञों को ऐ सी २ का भुगतान किया गया था क्योंकि उन्हें एन सी एस टी सी का अनुमोदन प्राप्त था …..और उनके मानदेय भी अधिक थे …… ये अनुभव आपके कम आयेगें -इन्हें सहेज कर रखें !
बाकी उदघाटन सत्र की अध्यक्षता के लिए बधायी -तेल बाती के लिए तो हम काफी थे …आपने क्यों जहमत उठाई ? अगर उठाई तो ! और यह तो व्यक्ति की सहजता और विनम्रता का परिचायक है न कि कटूक्ति का -सायिनिज्म का !

Monday, 30 August, 2010

अब मैं तो किंकर्तव्यविमूढ़ सा इसे देखता रहा। अपनी पोस्ट इस टिप्पणी के आलोक में दुबारा पढ़ी, तिबारा पढ़ी…। इसकी शुरुआत ही इन पंक्तियों से की थी, “जब मैंने वर्धा से लखनऊ आने के लिए टिकट बुक कराया तो मन में यह उत्साह था कि हिंदी ब्लॉगरी की यात्रा मुझे एक ऐसे मुकाम पर ले जाने वाली है जहाँ अपनी तहज़ीबों और नफ़ासत के लिए मशहूर शहर की एक शानदार शाम अपने् प्रिय ब्लॉगर मित्रों की खुशगवार सोहबत में बीतेगी।”

फिर बाकी टिप्पणियाँ भी दुबारा देख डाली। कन्फ़्यूजन बढ़ता गया। फिर मैने सोचा कि वे बड़े  भाई हैं,  अनुभवी ब्लॉगर हैं, मेरे शुभेच्छु हैं और सबसे बढ़कर एक वैज्ञानिक हैं और विज्ञान प्रसारक हैं इसलिए जो कह रहे हैं वह ठीक ही कह रहे होंगे। मैंने मन ही मन हाथ जोड़कर उन्हें धन्यवाद दिया।फिर लगा कि यह धन्यवाद तो उनतक पहुँच ही नहीं पाएगा। सो मैंने उन्हें प्रति-टिप्पणी  के माध्यम से जवाब देना चाहा। जब टिप्पणी टाइप कर चुका तो पब्लिश बटन दबाने के पहले इसे कॉपी करके सेव कर लेना जरूरी समझ में आया। दर‌असल ब्लॉगर वाले कई बार गच्चा दे चुके हैं। अक्सर लम्बी टिप्पणियों को गायब करके ‘सॉरी’ बोल देते हैं। कमाल देखिए कि हुआ भी वही जिसकी आशंका थी। टिप्पणी लम्बी थी, गायब हो गयी। अब मजबूरी में वह टिप्पणी यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ।

आदरणीय अरविंद जी,

मैने इस पोस्ट में इस कार्यक्रम की इतनी आलोचना कर दी है यह तो मुझे पता हि नहीं था। वह तो भला हो आदरणीय अली जी, रविन्द्र प्रभात जी और आपका जो मुझे इस बात का पता चल गया। आप तीनो का हार्दिक धन्यवाद।

ब्लॉगर्स की अनुपस्थिति की चर्चा तो मैने व्यक्तिगत स्तर पर उन्हें ‘मिस’ करने के कारण की थी। वर्धा से लखनऊ जाकर मैं उम्मीद कर रहा था कि अनेक बड़े लोगों से मुलाकात होगी, सुबह शाम की गप-शप और अनुभवों का आदान-प्रदान होगा। लेकिन मुझे क्या पता था कि मेरी निजी इच्छा का पता चलते ही आपलोग आहत हो जाएंगे। मुझे यह कार्यक्रम स्थल पर पहुँचने के बाद पता चला कि यह गैर ब्लॉगर को ब्लॉगर और वह भी साइंस ब्लॉगर बनाने की कार्यशाला थी जो सरकार द्वारा विज्ञान के प्रचार-प्रसार के उद्देश्य की पूर्ति के लिए चलायी जा रही एक योजना का हिस्सा थी। वहाँ ब्लॉगर भाइयों को न पाकर मेरी सहज प्रतिक्रिया थी यह पोस्ट, न कि कोई शिकायत।

आप द्वारा गिनायी गयी खान-पान, रहन-सहन, बेड-टी, ए.सी., नॉन-ए.सी., मानदेय, ऑटो, टैक्सी जैसी बातों पर ध्यान देना, तुलनात्मक अध्ययन करना और उसकी समीक्षा करना मुझे बहुत तुच्छ काम लगता है, इसलिए अपनी पोस्ट में उसका जिक्र न करने पर मुझे कोई पछतावा नहीं है। मेरे हिसाब से आयोजन के तमाम दूसरे उज्ज्वल पक्ष थे जिनका लिंक मैने इस पोस्ट में दे दिया था। समय पाकर मैं भी कुछ बताने की कोशिश करता लेकिन इसके पहले ही ‘सिनिकल’ होने का ठप्पा लग गया।

वैसे दूसरे दिन के प्रथम सत्र में मैंने साइंस ब्लॉगर्स एसोसिएशन के ब्लॉग पर लाइव कमेण्ट्री पोस्ट करने की कोशिश की थी। जिसे आपने कदाचित्‌ पसंद भी किया था।

एक गलती आयोजकों ने जरूर की जिसे मैं अब समझ पाया हूँ। इतने बड़े और उत्कृष्ट वैज्ञानिक आयोजन में एक अदने से अवैज्ञानिक ब्लॉगर को बुला लिया और उसे उद्‍घाटन सत्र में मुख्य अतिथि के बगल में बिठा दिया, जिसे किसी प्रोटोकॉल की जानकारी भी नहीं थी। इतना ही नहीं, मुख्य अतिथि भी भले ही दो-दो विश्वविद्यालयों के कुलपति रह चुके हों लेकिन ब्लॉगिंग के बारे में उनकी जानकारी भी उतनी ही थी जितनी डॉ.अरविंद मिश्र ने उद्घाटन के ठीक पहले उन्हें ब्रीफ किया था। एन.सी.एस.टी.सी. से एप्रूव कराने का काम आयोजकों का ही था तो ‘अनएप्रूव्ड’ व्यक्ति को बुलाने की गलती कैसे हो गयी?

मैं तो गलती से इतने सम्मानित मंच पर बुला लिया गया, इसलिए अब आपकी बधायी स्वीकारने में भी संकोच का अनुभव कर रहा हूँ। आपने मुझे ए.सी. कमरे में ठहरा दिया इस बात को छिपा ले जाने की मेरी कोशिश असफल हो गयी, शर्मिंदा हूँ।

मैंने अपनी पूरी पोस्ट बहुत हल्के-फुल्के अंदाज में लिखने की कोशिश की थी लेकिन यदि इसमें कोई कटुक्ति आ गयी है तो इसे मैं अपनी असफलता ही मानता हूँ। सादर खेद प्रकाश करता हूँ।”

IMG443-01 तो मित्रों, मैं एक बार फिर बता दूँ कि मेरी पिछली पोस्ट पर अन्जाने में मुझसे जो घनघोर आलोचना हो गयी थी वह मेरे अनाड़ीपन के कारण हो गयी थी। सच तो यह है कि मैं इस कार्यक्रम में नाहक ही बुला लिया गया था। अब इसपर NCSTC क्या रुख अपनाती है इसे सोचकर थोड़ा चिंतित हूँ। जैसा कि आदरणीय विद्वत्‌‍जनों ने बताया है कि  कार्यशाला बेहद उम्दा और उत्कृष्ट कोटि की थी, इसमें लखनऊ के ब्लॉगर्स का कोई काम ही नहीं था, मैंने उन्हें नाहक ही याद किया। इसलिए मैं अपनी गलती मानते हुए पुनः खेद प्रकाश करता हूँ।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

रेल में पकवान और कार्यशाला वीरान… लखनऊ के ब्लॉगर नदारद…?

20 टिप्पणियाँ

 

जब मैंने वर्धा से लखनऊ आने के लिए टिकट बुक कराया तो मन में यह उत्साह था कि हिंदी ब्लॉगरी की यात्रा मुझे एक ऐसे मुकाम पर ले जाने वाली है जहाँ अपनी तहज़ीबों और नफ़ासत के लिए मशहूर शहर की एक शानदार शाम अपने् प्रिय ब्लॉगर मित्रों की खुशगवार सोहबत में बीतेगी। मैंने कुलपति जी से अनुमति माँगी और उन्होंने सहर्ष दे दी। एक आदरणीय ब्लॉगर मित्र ने ही टिकट पक्का कराया और मैं सेवाग्राम से लखनऊ के लिए राप्तीसागर एक्सप्रेस पर सवार हो लिया।

जब मैं अपने टिकट पर अंकित बर्थ संख्या पर पहुँचा तो देखा कि मेरे कूपे में तमिलभाषी तीर्थयात्रियों के एक बहुत बड़े समूह का एक हिस्सा भरा हुआ था। नीचे की मेरी बर्थ पर एक प्रौढ़ा महिला सो रही थीं। उनकी गहरी नींद में खलल डालने में मुझे संकोच हुआ। थोड़ी देर मैं चुपचाप खड़ा होकर सोचता रहा। अगल-बगल की बर्थों पर भी तीर्थयात्री या तो जमकर बैठे हुए थे, सो रहे थे या उनका सामान लदा हुआ था। मैने अपना बैग उठाकर दुबारा पटका ताकि उसकी आवाज से मेरे आने की सूचना उनके कानों तक पहुँच सके। (बाद में मैंने ध्यान दिया कि अधिकांश ने अपने कानों में सचमुच की रूई डाल रखी थी। खैर…) दोपहर के भोजन के बाद की नींद थी, शायद ज्यादा गहरी नहीं थी। सामने की बर्थ पर लेटी हुई दूसरी महिला ने आँखें खोल दीं। उन्होंने मेरी सीट वाली महिला को हल्की आवाज देकर कुछ कहा- शायद यह कि अब उठ जाओ, जिसके आने का अंदेशा था वह आ चुका है- इन्होंने आँखें खोल दी। मुझे खड़ा देखकर झटपट अपने को समेटने की कोशिश करने लगीं। 

लेकिन यह इतना आसान नहीं था। ईश्वर ने उन्हें कुछ ज्यादा ही आराम की जिंदगी दी थी। जिसका भरपूर लाभ उठाते हुए उन्होंने काफ़ी वजन इकठ्ठा कर लिया था। वजन तो उस समूह की प्रायः सभी महिलाओं और पुरुषों का असामान्य था। कोई भी फुर्ती से उठने-बैठने लायक नहीं था। मुझे मन हुआ कि कह दूँ- आप यूँ ही लेटी रहिए, मैं कोई और बर्थ खोजता हूँ। उनकी आँखों में भी कुछ ऐसी ही अपेक्षा झाँक रही थी तभी बगल की बर्थ पर लेटे एक भीमकाय बुजुर्ग ने टूटी हिंदी में कहा कि ‘वो ऊपर चढ़ नहीं सकता’। मैंने ऊपर की साइड वाली सीट देखी- खाली थी। मैंने झट ऊपर अपना लैपटॉप का बैग चढ़ाया, प्रौढ़ा माता जी को लेटे रहने का इशारा किया और अपना ट्रेवेल बैग खिड़की वाली बर्थ के नीचे फिट करने लगा। उनकी आँखों में धन्यवाद और आशीर्वाद के भाव देखकर मैं भावुक हो लिया, बल्कि मेरी अपनी माँ याद आ गयी जो बहुत दिनों बाद मेरे पास रहने का समय निकालकर वर्धा आ पायी हैं।

आयोजकों ने ए.सी.थ्री की सीमा पहले ही समझा दी थी। ऐसे में लगातार लेटकर यात्रा करने की कल्पना से मैं परेशान था। लेकिन जब मुझे साइड की ऊपरी सीट मिल गयी तो मन खुश हो लिया। उसपर तुर्रा यह कि सहयात्रियों ने मुझे बड़े दिल वाला भी समझ लिया। अब तो ऊपर बैठकर, लेटकर, करवट बदल-बदलकर, आधा लेटकर, तिरछा होकर, चाहे जैसे भी यात्रा करने को मैं स्वतंत्र था। किसी का कोई हस्तक्षेप नहीं होने वाला था। लेकिन इस अवसर का ज्यादा हिस्सा मैने एक मौन अध्ययन में बिताया। चेतन भगत की पुस्तक ‘टू स्टेट्स’ हाल की दिल्ली यात्रा में पढ़ने को मिली थी। उसमें मद्रासी (तमिल) परिवार के खान-पान और आचार-व्यवहार का बहुत सूक्ष्म वर्णन किया गया है। मैंने उस रोचक वर्णन का सत्यापन करने के उद्देश्य से इनपर चुपके से नजर रखनी शुरू की।

उस कहानी के पात्रों के विपरीत मैने यह पाया कि वे तमिल बुजुर्ग् बड़े खुशमिजाज़ और शौकीन लोग थे। जिन माताजी को मैने अपनी बर्थ दी थी उन्होंने तो मानो मुझे अपना बेटा ही मान लिया। भाषा की प्रबल बाधा के बावजूद (उन्हें हिंदी/अंग्रेजी नहीं आती थी और मैं तमिल का ‘त’ भी नहीं जानता था) उन्होंने बार-बार मुझे अपनी दर्जनों गठरियों में रखे खाद्य पदार्थ (मैं उनके नाम नहीं ले पा रहा- बहुतेरे थे) ऑफर किए। मैंने हाथ जोड़कर मना करने के संकेत के साथ धन्यवाद  कहा जो उन्हें समझ में नहीं आया। डिब्बे का मुँह खोलकर मेरी ओर उठाए उनके हाथ वापस नहीं जा रहे थे तो मैँने एक टुकड़ा उठाकर ‘थैंक्यू’ कहा और आगे के लिए मना किया, लेकिन वो समझ नहीं रही थीं या समझना नहीं चाहती थी। नतीजा यह हुआ कि उन लोगों के खाने के अनन्त सिलसिले का मैं न सिर्फ़ प्रत्यक्षदर्शी रहा बल्कि उसमें शामिल होता रहा। सुबह के वक्त तो उन्होंने मुझसे पूछना भी जरूरी नहीं समझा और मेरे रेल की रसोई (Pantry) से आये नाश्ते के ऊपर से अपनी जमात का उपमा, साँभर, इडली और ‘बड़ा’ एक साथ लाद दिया। मैंने जिंदगी में पहली बार ये चार सामग्रियाँ एक साथ खायीं।

वे लोग मेरे बारे में जाने क्या-क्या बात करते रहे। मैं समझ नहीं पा रहा था, इसलिए थोड़ी झुँझलाहट भी हो रही थी। एक लुंगीधारी बुजुर्ग ने मुझसे मेरा नाम और काम पूछा था। मैंने जो बताया था वही शब्द उनकी तमिल के बीच-बीच में सुनायी दे रहे थे। जो इस बात के गवाह थे कि उनकी चर्चा का एक् विषय मैं भी था। तभी उन माता जी ने मुझसे कुछ पूछा। मैं तमिल् समझ न सका। दूसरे बुजुर्गवार ने अनुवादक बन कर कहा- तुमरा कितना बड़ा बच्चा है? मैंने बताया- एक बेटी दस साल की और एक बेटा चार साल का। उम्र समझाने के लिए उंगलियों का प्रयोग करना पड़ा। इस पर उनके बीच आश्चर्य व कौतूहल मिश्रित हँसी का फव्वारा फूट पड़ा। जो दूसरे कूपे तक भी गया। मैं चकराकर दुभाषिया ढूँढने लगा।

इस बातचीत का रस लेने ऊपर की बर्थ पर लेटा एक तमिल नौजवान भी नीचे चला आया था। मैंने उससे परिचय चलाया तो पता चला कि वह भैरहवा (नेपाल) से एम.बी.बी.एस. कर रहा था। नीचे वाले बुजुर्ग ने उसकी पीठ ठोकते हुए तस्दीक किया था। मैने उससे पूछा- “what were they talking about me?”

उसने मुस्करा कर कहा – “They said that you have got two children, still you look so young.’’

मैं मन ही मन खुश हो लिया लेकिन चेहरे पर थोड़ी शर्म आ ही गयी। मैंने अपनी ओर उठी हुई उन सबकी प्रश्नवाचक निगाहों को जवाब दिया – “Thanks a lot to all of you… this is one of the rarest complements for me as here I am told to have an older look of face than my actual age” महिलाओं ने तमिल में नकारा और पुरुषों ने मुस्कराकर चुप्पी लगा ली।

गाड़ी जब लखनऊ पहुँची तो मुझे ध्यान आया कि मैं ब्लॉग लेखन की पाँच दिवसीय कार्यशाला में भाग लेने आया हूँ और मुझे पहली बार किसी सत्र की अध्यक्षता करनी है। मैंने सबको एक बार फिर धन्यवाद दिया, अच्छी यात्रा के लिए और दक्षिण भारतीय व्यंजनों के लिए। स्टेशन से बाहर आकर ऑटो लिया और गेस्ट हाउस की ओर चल पड़ा। रास्ते में यहाँ का गर्म मौसम देखकर रमजान के रोजेदारों का ध्यान हो आया।

(२)

Invitationदूर-दूर तक भेंजा गया था निमंत्रण-पत्र 

राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी संचार परिषद(NCSTC), नई दिल्ली और लखनऊ की ‘तस्लीम’ संस्था द्वारा एक पाँच दिवसीय कार्यशाला ‘ब्लॉग लेखन के द्वारा विज्ञान संचार’ विषय पर आयोजित थी। तस्लीम ब्लॉग पर इसकी सूचना अनेकशः प्रकाशित हुई थी। जाकिर भाई और बड़े भाई डॉ. अरविंद जी मिश्र ने मुझसे और मेरे जैसे अनेक ब्लॉगर्स को लखनऊ पहुँचने के लिए कहा था। मेरी यात्रा सुखद रही थी इसलिए आगे भी मामला चकाचक रहने की पूरी आशा थी। मैंने गेस्ट हाउस पहुँचकर नहाने और तैयार होने में बहुत कम समय लगाया। आभासी दुनिया के साथियों से प्रत्यक्ष मुलाकात का सुख पाने की लालसा जोर मार रही थी। ज़ाकिर भाई घटनास्थल… सॉरी कार्यक्रम स्थल से पल-पल की सूचना मोबाइल पर दे रहे थे। मुझे लेने कोई गाड़ी आने वाली थी। उसके खोजे जाने, चल पड़ने और गेस्ट हाउस पहुँच जाने के बीच तीन-चार बार फोन आ गये। मैं घबराकर नीचे उतरकर रिसेप्शन पर जाकर खड़ा हो गया। जो ही दो-चार मिनट बचा लिए जाते।

मैं ठीक दो बजे वहाँ पहुँच गया। अरविंद जी तैयारियों को अंतिम रूप में बुरी तरह व्यस्त थे। शायद उन्होंने ज़ाकिर भाई से कमान अपने हाथों में ले ली थी। ज़ाकिर भाई रमजान के महीने में पसीने से तर-बतर दिखायी पड़े। मैने गर्मजोशी से हाथ मिलाया। वे बोले- “बस दस मिनट में लंच आ रहा है। खा लीजिए फिर शुरू करते हैं।” मैं सोचने लगा कि कार्यक्रम की शुरुआत में सिर्फ़ मेरे खा लेने की प्रतीक्षा आड़े आ रही है तो उसे टाल देते हैं। तभी अरविंद जी ने संयोजक महोदय को झिड़की दी- “मुख्य अतिथि को बैठाकर आप खाना खिलाने की बात कर रहे हैं? चलिए कार्यक्रम शुरू करते हैं” मैं उनसे सहमत होने के एक मात्र उपलब्ध विकल्प पर सिर हिलाते हुए आगे बढ़ गया।

“लेकिन दूसरे भाई लोग कहाँ हैं?” मैंने ज़ाकिर से पूछा। हाल में अभी तीन-चार छात्र टाइप प्रतिभागी दिखा्यी दे रहे थे। कुछ पंजीकरण काउंटर पर अपना नाम लिखा रहे थे। मेरी उम्मीद से उलट वहाँ एक भी ऐसा ब्लॉगर चेहरा नहीं दिखा जो मुझसे पहले न मिला हो। वहाँ थे तो बस अरविंद जी और ज़ाकिर भाई। जाहिर है कि तीसरा सुपरिचित बड़ा नाम मेरा ही था 🙂

‘अवध रिसर्च फाउंडेशन’  नामक निजी संस्था के कार्यालय में ही कार्यशाला आयोजित थी। ज़ाकिर भाई उन खाली कुर्सियों की ओर देख रहे थे जो वर्तमान और भविष्य के ब्लॉगर्स की राह देख रही थीं। आमद बहुत धीमी और क्षीण थी। पूर्व कुलपति प्रो. महेंद्र सोढ़ा जी ठीक समय पर पधार चुके थे। अरविंद जी भी समय की पाबंदी पर जोर देने लगे और कार्यक्रम तत्काल शुरू करने का निर्णय हुआ। मैने मन ही मन ट्रेन वाली उन माता जी को एक बार फिर धन्यवाद दिया जिन्होंने सुबह नाश्ते के नाम पर मुझे दिन भर के लिए भूख से मुक्त कर दिया था। हमने उद्‍घाटन सत्र प्रारम्भ किया। इसका हाल आप यहाँ और यहाँ पढ़ सकते हैं।

उद्‍घाटन सत्र के बाद हमने लजीज व्यंजनों से भरा लंच पैकेट खोला और तृप्त हुए। अरविंद जी ने दो बार बताया कि वे बहुत जिद्दी इंसान हैं और जो बात एक बार तय कर लेते हैं उसे करवाकर मानते हैं। हम उनकी इसकी बात का लोहा मानते हुए खाना खाते रहे। समय की पाबंदी को जबतक जिद्द का विषय न बनाया जाय तबतक उसका भारत में अनुपालन असंभव है। इस बीच NCSTC के प्रेक्षक महोदय भी आ चुके थे और उद्घाटन सत्र की सफलता से गदगद हो रहे थे। सबकी भूख प्रायः शांतिपथ पर चल पड़ी थी।

लेकिन कदाचित्‌ मेरी दूसरी भूख अतृप्त ही रहने वाली थी। मैंने आखिरकार पूछ ही लिया- “भाई साहब, आप ये बताइए कि आपने किस-किसको बुलाया था जो नहीं आये?” ज़ाकिर भाई एक से एक नाम गिनाने लगे और उनके न आने के ज्ञात-अज्ञात कारण बताने लगे। मैं निराश होकर सुनता रहा। हद तो तब हो गयी जब उन्होंने यह बताया कि आज के प्रथम तकनीकी सत्र के मुख्य वक्ता ज़ीशान हैदर ज़ैदी और वक्ता अमित ओम के आने में भी संदेह उत्पन्न हो गया है। सारांशक अमित कुमार का न आना तो पक्का ही है। मैंने अरविंद जी से पूछा कि मेरी ज़िंदगी की ‘पहली अध्यक्षी’ मंच पर अकेले ही गुजरेगी क्या? वे इस सत्र में जाकिर भाई के साथ किनारे बैठकर उद्‌घाटन सत्र पर एक ब्लॉग पोस्ट तैयार करके तुरंत ठेलने की योजना बना रह थे। बोले- “यह सत्र आपके हाथ में है। जैसे चाहिए संचालित करिए।” मैंने कहा- “अध्यक्ष की भूमिका तो चुपचाप बैठने और सबसे अंत में यह बोलने की होती है कि किसने क्या बोला? अब यहाँ तो सीधे स्लॉग ओवर की नौबत आ गयी है।”

इसपर उन्होंने ‘आधुनिक सेमिनारों में अध्यक्ष की बढ़ती भूमिका’ विषय पर  एक लम्बी व्याख्या प्रस्तुत कर दी जिसका सारांश यह था कि अध्यक्ष को पूरा सेमिनार हाइजैक करने का पावर होता है। उसे शुरुआत से लेकर अंत तक वे सारे काम खुद करने पड़ते हैं जो करने वाला कोई और नहीं होता है। दीपक जलाने के लिए पंखा बंद करने से लेकर तेल की बत्ती से अतिरिक्त तेल निचोड़ने तक और अतिथियों व प्रतिभागियों के स्वागत से लेकर धन्यवाद ज्ञापन तक उसे हर उस तत्वज्ञान से गुजरना पड़ता है जो किसी सेमीनार की सफलता के लिए आवश्यक होते हैं। मुझे शरद जोशी द्वारा बताये गये ‘अध्यक्ष बनने के नुस्खे’ बेमानी लगने लगे।

अपनी नैया किनारे पर ही डूबती देख मैंने भगवान को स्मरण किया। बाईचान्स भगवान ने मेरी प्रार्थना सुन भी ली। सत्र प्रारम्भ होने के ठीक पहले ओम जी भागते हुए पहुँच ही तो गये। मैंने उनके लिए फ़ौरन चाय-पानी का इंतजाम करने को कहा। पता चला कि उन्होंने जिंदगी में कभी चाय पी ही नहीं। यह मजाक नहीं सच कह रहा हूँ। मेरे सामने एक ऐसा निर्दोष सुदर्शन नौजवान खड़ा था जिसके शरीर में चाय नामक बुराई का लेशमात्र भी प्रवेश नहीं हो पाया था। ऐसे पवित्र आत्मा के आ जाने के बाद सफलता पक्की थी। अब मेरी भगवान में आस्था और बढ़ गयी।

मैंने एक बार हाल में झाँककर प्रतिभागियों का मुआयना किया। दिल जोर से धड़क गया। कुल जमा पाँच विद्यार्थी यह जानने बैठे हैं कि ‘साइंस ब्लॉगिंग’ क्या है…! इन्हें यह समझाने में दो घंटे लगाने हैं। वह भी तब जब इसी बिन्दु पर अरविंद जी अपना पॉवर-प्वाइंट शो एक घंटा पहले ही प्रस्तुत कर चुके हैं। मैं भी थोड़ा बहुत जो कुछ पता था वह उद्घाटन सत्र में ही उद्घाटित कर चुका हूँ। नये वक्ता ओम जी पर सारा दारोमदार था। इसी उधेड़-बुन में लगा रहा कि पसीना बहाते एक दढ़ियल नौजवान नमूदार हुआ। मानो खुदा ने कोई फ़रिश्ता भेंज दिेया हो। परिचय हुआ तो पता चला कि ये ही जनाब जीशान हैदर ज़ैदी साहब हैं। ये साइंस फिक्शन के माहिर लेखक हैं और वैज्ञानिक विषयों को रोचक शैली में प्रस्तुत करने का हुनर रखते हैं। आप रोजे से थे और अपने मेडिकल कॉलेज में परीक्षा कराकर भागते चले आये थे।

बस फिर क्या था। तकनीकी सत्र शुरू हुआ। लखनऊ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता और जनसंचार विभाग के बच्चों ने पंजीकरण करा रखा था जिनके आने से हाल भरा-भरा सा लगने लगा। मैने माइक संभाला। सबसे संक्षिप्त परिचय लिया, उनका मन टटोलने के लिए। सभी उत्सुक लगे। जिज्ञासु  विद्यार्थी किसे नहीं भाते? जीशान ने अपनी कुशलता का परिचय दिया। मैंने दुतरफ़ा संवाद सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रतिभागियों को टिप्पणी करना अनिवार्य कर दिया। अध्यक्षीय फरमान था। पूरा अनुपालन हुआ। प्रश्नोत्तर का दौर कुछ लम्बा ही हो गया। कुछ प्रश्न अगले सत्रों के लिए टालने पड़े। …सब आज ही जान लोगे तो अगले चार दिन क्या करोगे भाई…? मैने उनका हौसला बढ़ाते हुए पहले हि कह दिया था कि जब मेरे जैसा कोरा आर्ट्स साइड का विद्यार्थी साइंस ब्लॉगिंग सेमिनार में अध्यक्षता कर सकता है तो आप लोग तो बहुतै विद्वान हो। उनका उत्साह बहुत बढ़ गया। अरविंद जी ने उद्‍घाटन के समय कह ही दिया था कि ब्लॉग बनाने में केवल तीन मिनट लगते हैं।

मुझे अंदेशा हुआ कि कहीं ये ऐसा न समझ लें कि ब्लॉग सच्ची में तीन मिनट का खेल है। मैंने फिर संशोधित सूचना दी। ब्लॉग बना लेना उतना भर का काम है जितना एक भारी-भरकम किताब खरीदकर ले आना और पहला पन्ना खोल लेना। असली मेहनत तो उसके बाद शुरू होती है जिसका कोई अंत ही नहीं है। अगर पन्ना पलट-पलत कर पढ़ाई नहीं की गयी तो किताब पर धूल जम जाएगी और खरीदना बेकार हो जाएगा। वही हाल ब्लॉग का है….

अंत में अमित ओम ने सारांशक की भूमिका निभाते हुए सारी बातें दुबारा बताना शुरू कर दिया। बच्चे तबतक काफी कुछ सीख चुके थे इसलिए उठकर जाने लगे। मौके की नज़ाकत भाँपते हुए मैने फिर पतवार थामी और नाव को सीधा किनारे लगाकर खूँटे से बाँध दिया। अब कल खुलेगी।  कल के नाविक कोई और हैं। लेकिन वह बहुत अनुभवी, मेहनतकश और मजेदार बातें करने वालों की टीम है। हम भी नाव में बैठकर यात्रा करेंगे। शायद कल कुछ लखनवी ब्लॉगर्स के दर्शन भी हो जाय।

समय: ११:५५ रात्रि (२७ अगस्त,२०१०)

स्थान: २१३, एन.बी.आर.आई. गेस्टहाउस, गोखले मार्ग, लखनऊ।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

Older Entries